ताज़ा खबर :
prev next

मेट्रो प्रॉजेक्ट के लिए परिषद को अब हर महीने देने पड़ सकते है ‌40 करोड़

मेट्रो  प्रॉजेक्ट के लिए परिषद को अब हर महीने देने पड़ सकते है ‌40 करोड़

गाज़ियाबाद। दिलशाद गार्डन से नया बस अड्डा मेट्रो प्रॉजेक्ट के लिए आवास विकास परिषद को अब हर महीने जीडीए को 40 करोड़ रुपए देने पड़ सकते हैं। आवास विकास परिषद के अधिकारियों का कहना है कि जल्द ही बोर्ड की बैठक में इस प्रस्ताव पर अंतिम फैसला हो सकती है। जीडीए बार-बार पत्र भेजकर परिषद को हर महीने 40 करोड़ रुपये देने की मांग कर रहा है, लेकिन परिषद की ओर से फंड नहीं मिलने से डीएमआरसी का काम प्रभावित हो रहा है। शासन की ओर से परिषद पर दबाव बनाए जाने के बाद मसले को बोर्ड बैठक में ले जाने का प्रस्ताव बनाया गया है। मेट्रो की फंडिंग पर सीधे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की नजर है। ऐसे में इस प्रस्ताव के पास होने की पूरी संभावना है। गौरतलब है कि पहले आवास विकास परिषद की बोर्ड बैठक में यह फैसला हुआ था कि जब शासन की तरफ से अवस्थापना निधि का पैसा मिलेगा तो उस समय ही मेट्रो प्रॉजेक्ट का पैसा दिया जाएगा। इस फैसले का पालन करते हुए अभी तक आवास विकास परिषद जीडीए को मेट्रो के लिए पैसे देते आ रहा था।

यदि परिषद हर महीने 40 करोड़ रुपये देना शुरू कर देता है तो इससे फंड की कमी नहीं होगी और तेजी से प्रॉजेक्ट का काम होगा। पिछले कुछ दिनों से फंड की कमी की वजह से काम तेजी से नहीं हो पा रही है। मुख्यमंत्री के हस्तक्षेप के बाद यूपीएसआईडीसी और आवास विकास परिषद ने पिछले दो महीने के भीतर करीब 100 करोड़  रुपये जीडीए को दिए हैं। इस फंड को जीडीए ने डीएमआरसी को हैंडओवर कर दिया है।

मेट्रो प्रॉजेक्ट के तहत नगर निगम को 246 करोड़ जीडीए को देने हैं। लेकिन पैसे के भुगतान का मामला अभी शासन स्तर पर पेंडिंग पड़ा है। निगम का कहना है कि जीडीए ने उसकी जमीन ले रखी है। उस जमीन की कीमत निगम को मिल जाए तो वह मेट्रो प्रॉजेक्ट की फंडिंग कर देगा। लेकिन नियम है कि ऐसी जमीन के पुर्नग्रहण करने पर पैसा राजस्व में जमा किया जाएगा। लेकिन लखनऊ में यह शासनादेश है कि अगर एलडीए नगर निगम की किसी जमीन का पुर्नग्रहण करता है तो उसका पैसा निगम के खाते में जमा किया जाता है। जीडीए और निगम इस शासनादेश को गाजियाबाद के लिए जारी करने के लिए संयुक्त रूप से पत्र भी शासन को भेज चुके हैं।

 

 

 

हमारा गाज़ियाबाद के एंड्राइड ऐप के लिए आप यहाँ क्लिक कर सकते हैंआप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो भी कर सकते हैं।