ताज़ा खबर :
prev next

कोटगांव रेलवे क्रॉसिंग है सबसे ज्यादा खतरनाक, प्रशासन की लापरवाही से जा चुकी है कई जानें

कोटगांव रेलवे क्रॉसिंग है सबसे ज्यादा खतरनाक, प्रशासन की लापरवाही से जा चुकी है कई जानें

गाज़ियाबाद। जिले में कोटगांव रेलवे क्रॉसिंग सबसे ज्यादा खतरनाक है। रेलवे प्रशासन और खुद की लापरवाही के कारण यहां लोग बेमौत जान गंवा रहे हैं। बीते एक साल में 20 से ज्यादा लोग की इस  क्रॉसिंग को पार करते हुए जान जा चुकी है। इसके अलावा 50 से ज्यादा लोग घायल हो चुके हैं। हर बार हादसा होने पर इस क्रॉसिंग की बैरीकेडिंग के बड़े-बड़े दावे किए जाते हैं।

अवैध रूप से ट्रैक पार करने वाले लोगों को रोकने के लिए एक-दो दिन फोर्स भी तैनात की जाती है लेकिन इसके बाद फिर से इस  क्रॉसिंग को ऐसे ही छोड़ दिया जाता है जिसका खामियाजा हर बार लोगों को जान गंवाकर चुकाना पड़ रहा है। गौरतलब है कि जिले में कोटगांव क्रॉसिंग एकमात्र ऐसी क्रॉसिंग है जहां 19 ट्रैक हैं। कब कहां से कौन सी ट्रेन आ जाए पता ही नहीं चलता।

कोटगांव रेलवे क्रॉसिंग पर लगातार हादसे होने के चलते शहरवासियों द्वारा लंबे समय से इसे बंद करने की मांग की जा रही है लेकिन बंद की तो बात दूर रेलवे प्रशासन द्वारा बैरीकेडिंग भी नहीं कराई गई है। इसके अलावा अवैध रूप से ट्रैक पार करते लोगों को रोकने के लिए यहां नियमित रूप से जवानों की तैनाती भी नहीं की गई है।

अवैध रूप से ट्रैक पार करते वक्त होने वालों हादसों के लिए लोग भी कम जिम्मेदार नहीं हैं। सभी जानते हैं कि अवैध रूप से ट्रैक पार करना रेलवे के नियमों का उल्लंघन है और जान जोखिम में रहती है। लेकिन फिर भी लोग जान हथेली पर लेकर ट्रैक पार करते हैं और हादसों को शिकार होते हैं।

सूत्रों के अनुसार आरपीएफ प्रभारी, एम. असलम का कहना है कि कोटगांव क्रॉसिंग को पूरी तरह बंद करने के लिए कई बार प्रशासनिक अफसरों को पत्र भेजे जा चुके है लेकिन अभी तक इस दिशा में काम नहीं हो सका है। सभी रेलवे क्रॉसिंग पर जवानों की नियमित तैनाती संभव नहीं है।

हमारा गाज़ियाबाद के एंड्राइड ऐप के लिए आप यहाँ क्लिक कर सकते हैंआप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो भी कर सकते हैं।