ताज़ा खबर :
prev next

पटाखों पर रोक लगने से वर्षों बाद कुम्हारों के घर आई खुशियाँ

पटाखों पर रोक लगने से वर्षों बाद कुम्हारों के घर आई खुशियाँ

गाज़ियाबाद। दीपावली से पहले पटाखों पर रोक लगने से कुम्हारों के चेहरे खिल गए है। दीपावली के लिए माटी के दिये बना रहे कुम्हारों ने बताया कि पिछले कई वर्षों से घाटे में होने के बाद इस बार कुछ उम्मीद जगी है। पटाखों पर रोक के बाद अचानक तीन दिन में बड़े बाजारों से भी आर्डर आने लगे हैं। दो दिन में व्यापार अधिक बढ़ने की वजह से दोबारा काम शुरू करना पड़ा है।

उन्होंने बताया कि ऑर्डर बढ़ने के बाद दियों के लिए और माटी का प्रबंध करना पड़ा है। दीपावली के लिए दियों को बना रहे और कुम्हारों का मानना है कि इस बार शुरुआती दौर पर व्यापार बेहतर होने से लगता है यह दीपावली घर की काफी दिक्कतों को दूर करने में सफल रहेगी। दीपावली पर शुभ और पारंपरिक दियों के बजाए पटाखों को खरीदने वाले लोग इस बार फिर से माटी के दियों का उपयोग करेंगे, इससे हमारी गरीबी को मदद मिलेगी व लगातार कई वर्षों से घर पर रहने वाली रुपयों की किल्लत दूर हो सकती है।

दीपावली के लिए माटी के दिये बना रहे कुम्हारों का कहना है कि हर क्षेत्र में महंगाई बढ़ने के बावजूद माटी के दिये आज भी पांच वर्ष पहले वाले मूल्य में बिक रहे हैं। दियों की कीमत न बढ़ने की वजह से उनकी युवा पीढ़ी घर का पुश्तैनी काम छोड़कर रोजगार के लिए दूसरे क्षेत्र में मुड़ चुके हैं। पटाखों पर लगी रोक और इस वर्ष बढ़े ऑर्डर से उन्हें उम्मीद है कि यदि ऐसे ही हालात रहे तो घर से रोजगार के लिए काफी दूर चले गए उनके बच्चे दोबारा घर वापस आ सकेंगे।

 

हमारा गाज़ियाबाद के एंड्राइड ऐप के लिए आप यहाँ क्लिक कर सकते हैंआप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो भी कर सकते हैं।