ताज़ा खबर :
prev next

अगले 3 महीने में नोएडा, ग्रेटर नोएडा और यमुना एक्सप्रेस-वे अथॉरिटी के 50000 खरीदारों को मिलेंगे अपने फ्लैट

अगले 3 महीने में नोएडा, ग्रेटर नोएडा और यमुना एक्सप्रेस-वे अथॉरिटी के 50000 खरीदारों को मिलेंगे अपने फ्लैट

नई दिल्ली। बिल्डरों की गलती की वजह से अपना खुद का घर न पाने वाले लोगों के लिए एक अच्छी खबर है। पैसे देकर भी मकान न पाने वाले नोएडा, ग्रेटर नोएडा और यमुना एक्सप्रेसवे अथॉरिटी के 50,000 फ्लैट खरीदारों को तीन महीने के भीतर आशियाना मिल जाएगा। मंगलवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अध्यक्षता में तीनों प्राधिकरणों के बायर्स की समस्याओं के समाधान को लेकर बैठक में यह निर्णय लिया गया।

शहरी विकास मंत्री सुरेश खन्ना के मुताबिक, जिन बिल्डर्स को तीन महीने में पजेशन देना है वो नहीं देते हैं तो उनपर जुर्माना लगाने के साथ-साथ कानूनी कार्रवाई भी की जाएगी। बैठक में बिल्डर्स और बायर्स की समस्याओं को सुलझाने के लिए एक एक्सपर्ट कमेटी बनाने का निर्णय भी लिया गया। बैठक में बायर्स असोसिएशन, बिल्डर्स और तीनों अथॉरिटी के अधिकारियों ने हिस्सा लिया। बिल्डर्स ने भी अपनी समस्याएं मुख्यमंत्री के सामने रखीं। जिन पर सीएम ने उनके समाधान का आश्वासन दिया है।

काम में तेजी लाएगी एक्सपर्ट कमेटी

तीनों अथॉरिटी द्वारा गठित एक्सपर्ट कमेटी पजेशन मिलने में आने वाली दिक्कतों को दूर करेगी। यह कमेटी बिल्डर्स की समस्याओं का भी समाधान निकालेगी ताकि निर्धारित समय में पजेशन मिल सके। बायर्स असोसिएशन की तरफ से बैठक में प्रतिनिधित्व करने वाले जेवर के विधायक धीरेंद्र सिंह के मुताबिकए तीनों अथॉरिटी में करीब 1.5 लाख फ्लैट खरीदार हैं जिनके पैसे तो जमा हैंए लेकिन उन्हें पजेशन नहीं मिला है। ऐसे में एक लाख फ्लैट्स का पजेशन दिलाने का काम अहम होगा। अथॉरिटी की ओर से कई बिल्डर्स को कंप्लीशन सर्टिफिकेट नहीं दिया गया है जिसकी वजह से पजेशन नहीं मिल पा रहा है। इसके लिए हर महीने मंत्रीसमूह के साथ एक्सपर्ट कमेटी की बैठक होगी।

जेपी के खरीदारों को भी मिलेंगे घर

मुख्यमंत्री ने जेपी ग्रुप के घर खरीदारों को भी आश्वस्त किया कि डेवलपर उन्हें नवंबर से हर महीने 600 फ्लैट्स मुहैया कराएगा। जेपी ग्रुप के 32ए000 होम बायर्स डिलिवरी के इंतजार में हैं। उत्तर प्रदेश सरकार के तीन मंत्रियों सतीश महाना, सुरेश राना और सुरेश खन्ना की कैबिनेट कमेटी को यह जानकारी दी गई। इस कमेटी को हाल ही में नोएडा यह संभावना तलाशने के लिए भेजा गया था किए वहां के फ्लैट खरीदारों को कैसे न्याय दिलाया जा सकता है।

बिल्डर्स का होगा ऑडिट

सरकार नोएडाए ग्रेटर नोएडा और यमुना एक्सप्रेस.वे अथॉरिटी में मकान बनाने वाले बिल्डर्स का ऑडिट भी करवाएगी। विधायक धीरेंद्र सिंह के मुताबिकए बैठक में हर बिल्डर को खुद अपना ऑडिट कराने के लिए कहा गया है। इसके बाद सरकार भी तीनों प्राधिकरणों में काम करने वाली बिल्डर्स का ऑडिट कराएगी।

ये बिल्डर्स थे मौजूद

मुख्यमंत्री योगी की अध्यक्षता में हुई मीटिंग में आम्रपाली, वेब, जेपी इन्फ्रास्ट्रक्चर, सुपरटेक के अधिकारियों ने हिस्सा लिया। इनके अलावा ग्रेटर नोएडा के चेयरमैन राहुल भटनागर, सीईओ देबाशीष पांडा, नोएडा के सीईओ आलोक टंडन भी बैठक में मौजूद रहे।

हमारा गाज़ियाबाद के एंड्राइड ऐप के लिए आप यहाँ क्लिक कर सकते हैंआप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो भी कर सकते हैं।