ताज़ा खबर :
prev next

भीड़ के आगे बौना होता कानून, प्रदर्शनकारियों पर हुई कार्यवाही तो हिंसा पर उतरे पाटीदार

भीड़ के आगे बौना होता कानून, प्रदर्शनकारियों पर हुई कार्यवाही तो हिंसा पर उतरे पाटीदार

सूरत | लगता है अब भारत में लोकतंत्र नहीं भीड़ तंत्र का राज चल रहा है। देश भर से ऐसी ख़बरें आ रही हैं जहाँ उग्र प्रदर्शनकारी आगजनी और तोड़ फोड़ पर उतर आते हैं और मजबूरी में ही सही, सरकारों को उनकी बातें माननी या फिर वार्ता के लिए बुलाना पड़ता है।

कल रात गुजरात के सूरत में भी कुछ ऐसा ही हुआ। सूरत के पाटीदारों के दबदबे वाले इलाके में देर रात अज्ञात प्रदर्शनकारियों ने दो बसें फूंक दीं। जानकारी के मुताबिक मंगलवार की शाम सौराष्ट्र भवन में गुजरात बीजेपी युवा मोर्चा के कार्यक्रम में हार्दिक पटेल के नेतृत्व वाली पाटीदार अनामत आंदोलन समिति से कथित तौर पर जुड़े कुछ लोगों ने हंगामा करने की कोशिश की थी। यह कार्यक्रम भाजपा ने आगामी विधानसभा चुनावों को ध्यान में रखते हुए आयोजित किया था। बीजेपी पूरे राज्य में इस तरह की बैठकें आयोजित कर रही है।

पुलिस ने जैसे ही पाटीदार प्रदर्शनकारियों को हिरासत में लिया शहर में वबाल मच गया। सूरत के पुलिस आयुक्त सतीश शर्मा ने बताया कि प्रदर्शनकारियों ने पुलिस पर पथराव भी किया। हीराबाग सर्किल में दो बसें फूंक दी गई। इलाके में अब स्थिति नियंत्रण में है। कंट्रोल रूम के एक अधिकारी ने बताया कि पुलिस को लाठीचार्ज भी करना पड़ा।

हमारा गाज़ियाबाद के एंड्राइड ऐप के लिए आप यहाँ क्लिक कर सकते हैंआप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो भी कर सकते हैं।