ताज़ा खबर :
prev next

गोरक्षा के नाम पर हिंसा बर्दाश्त नहीं :सुप्रीम कोर्ट

गोरक्षा के नाम पर हिंसा बर्दाश्त नहीं :सुप्रीम कोर्ट

गाज़ियाबाद। देशभर में बढ़ते गोरक्षकों की हिंसा पर रोक लगाने के लिए सुप्रीम कोर्ट ने हर जिले में सीनियर पुलिस ऑफिसर तैनात करने का आदेश दिया है। जिससे नोडल अधिकारी कथित गोरक्षकों की हिंसा के खिलाफ कार्रवाई कर सके। शीर्स अदालत ने राज्यों को एक सप्ताह में अपना टास्क फोर्स बनाने के लिए कहा है, जिसमें वरिष्ठ पुलिसकर्मियों को नोडल अधिकारी के रूप में रखा जाएगा।

गोरक्षा के नाम पर बने संगठनों पर प्रतिबन्ध लगाने की मांग को लेकर दायर की गई याचिका पर सात अप्रैल को सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार और छह राज्य सरकार को नोटिस जरी कर जवाब माँगा था। याचिकाकर्ता तहसीन पूनावाला ने राजस्थान के अलवर इलाके में हुई एक घटना का हवाला देते हुए गोरक्षा के नाम पर दलितों और अल्पसंख्यक के खिलाफ हो रही हिंसा को रोकने की मांग की थी।

21 जुलाई को हुई अंतिम सुनवाई के दौरान, सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र और राज्यों को किसी भी तरह की हिंसा की रक्षा नहीं करने के लिए कहा है।

हमारा गाज़ियाबाद के एंड्राइड ऐप के लिए आप यहाँ क्लिक कर सकते हैंआप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो भी कर सकते हैं।

By सत्याभा : Thursday 26 अप्रैल, 2018 22:48 PM