ताज़ा खबर :
prev next

शाबाश गाज़ियाबाद: कर्ज में डूबे महेंद्र सिंह ठेले पर चाय बेंचकर कर रहे हैं समाज सेवा

शाबाश गाज़ियाबाद: कर्ज में डूबे महेंद्र सिंह ठेले पर चाय बेंचकर कर रहे हैं समाज सेवा

गाज़ियाबाद। रोज की भागदौड़ भरी जिन्दगी में सुकून के दो पल पाने की ख्वाहिश हर इन्सान की होती है। लेकिन काम के बोझ और परिवार के प्रति जिम्मेदारियों के चलते इन्सान सुकून के इन पलों से कोसों दूर सिर्फ भटकता नजर आता है। लेकिन ये भी सच है कि हम अगर अपनी जरुरतें कम करके परिस्थितियों से तालमेल बिठाना सीख जाएँ तो जिन्दगी का हरपल खुशनुमा बन सकता है।

आज हम आपको ऐसी ही शख्सियत से मिलवाने जा रहे हैं जो गरीब होते हुए भी किन्ही मुश्किलों या परिस्थितियों के मोहताज नही है। 58 वर्षीय महेंद्र सिंह पुराना बस अड्डा से हापुड़ जाने वाले मार्ग पर पिछले 8 साल से चाय बेंच रहे हैं। सर्दी हो या गर्मी इनका ठेला यहीं लगता है। इन्हें न तो अपने भविष्य की चिंता सताती है और न ये अपने भूतकाल में मुड़कर देखना चाहते हैं। जिन्दगी जैसी चल रही है, उसी में खुश हैं।

खास बात ये कि महेंद्र चाय बेंचकर अपने जैसे लोगों की सेवा करते हैं और कभी-कभी लोगों को फ्री में चाय भी पिला देते हैं। चेहरे पर गरीबी की खुशी लिए महेंद्र सिंह बताते हैं कि हमने कभी किसी की नौकरी नही की, अपने काम को ही भगवान समझा। भले ही आज किस्मत और वक्त ने हमे गरीब बना रखा हो लेकिन हम कर्म करने से पीछे नहीं हटना चाहते, आज नही तो कल हमारी मेहनत रंग लाएगी और कुछ अच्छा जरुर होगा।

महेंद्र बताते हैं कि इनके तीन बेटे हैं और एक बेटी भी है। दो बेटे अपने पैरों पर खड़े हैं और एक बेटा सिविल की तैयारी कर रहा है। अपने पिता से पैसे न मांगना पड़े इसलिए तीसरा बेटा कोचिंग पढ़ाकर अपने सपने पूरा करना चाहता है। महेंद्र सिंह ने बताया कि इन्होने अपनी बेटी की शादी अपने भाई से कर्ज लेकर की है। लेकिन खास बात ये है कि आज तक इनके भाई ने इनसे पैसे नहीं मांगे। ये बताते हैं कि बड़े घरानों की तरह इनका परिवार भी प्यार और सहकार से भरा हुआ है। गरीबी को महेंद्र सिंह अपनी कमजोरी नही बल्कि ढाल मानते हैं क्यूंकि ये बुरा वक्त अभी तो नही लेकिन चला जरुर जाएगा।

महेंद सिंह के इस जज्बे को हमारा गाज़ियाबाद की टीम सलाम करती है और आपसे भी अपील करती है कि अगर आपके आसपास भी ऐसे लोग रहते हों तो उनकी कहानी हमे hamaraghaziabad100@gmail.com पर भेज दें।

हमारा गाज़ियाबाद के एंड्राइड ऐप के लिए आप यहाँ क्लिक कर सकते हैंआप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो भी कर सकते हैं।