ताज़ा खबर :
prev next

झील की जमीन को लेकर मोहन मिकिन्स कंपनी के मालिक की बढ़ी मुसीबत

झील की जमीन को लेकर मोहन मिकिन्स कंपनी के मालिक की बढ़ी मुसीबत

ग़ाज़ियाबाद। मोहन मिकिन्स के मालिक सहित 15 अफसर जल्द ही पक्षी विहार झील की जमीन के सिलसिले में मुसीबत में पड़ने वाले हैं। पक्षी विहार बनाने वाली डी एम की 21 मार्च 1994 में जारी अधिसूचना को सरकार ने रद्द कर दिया है। इस जमीन को आवास विकास के खाते में दर्ज करने के आदेश दिए गए है। 77 बीघा झील की जमीन अब अनेक लोगों को डूबाने वाली है।

धोखाधडी करने वाली मोहन मिकिन्स कंपनी के अलावा बिल्डर गौड़ संस के मालिकों और अफसरों पर एफआईआर के आदेश  दिये गए है। मुख्य सचिव राजीव कुमार ने तत्कालीन प्रशासन के अफसरों और कर्मचारियों पर कारवाही का आदेश जारी किया है। इस संबंध में जल्द कारवाही हो इसके लिए समिति भी गठित कर दी गयी है। बता दें कि झील की जमीन को बचाने के सुलेमान डबास ने रिट दायर की  है।

हमारा गाज़ियाबाद के एंड्राइड ऐप के लिए आप यहाँ क्लिक कर सकते हैंआप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो भी कर सकते हैं।