ताज़ा खबर :
prev next

ठेला पटरी वालों को मिलेंगे परिचय पत्र, शहर में बनेंगी स्पेशल वेंडिंग जोन्स – सीपी सिंह, नगरायुक्त

ठेला पटरी वालों को मिलेंगे परिचय पत्र, शहर में बनेंगी स्पेशल वेंडिंग जोन्स – सीपी सिंह, नगरायुक्त

गाजियाबाद | गाज़ियाबाद में ठेला पटरी पर दुकानें लगाकर अपने परिवार का पेट पालने वालों के लिए खुशखबरी है। गाज़ियाबाद नगर निगम जल्द ही शहर के सभी स्ट्रीट वेंडर्स (ठेला पटरी) के लिए प्रमाण पत्र जारी करने जा रहा है। नगरायुक्त सी.पी सिंह का कहना है कि स्ट्रीट वेंडर्स के लिए शहर में स्पेशल वेंडिंग जोन्स बनाकर उन्हें वहां पुर्नस्थापित किया जायेगा। उम्मीद है इसके बाद गाज़ियाबाद शहर को स्ट्रीट वेंडर्स और साप्ताहिक बाज़ारों द्वारा किए जाने वाले अतिक्रमण की समस्या से मुक्ति मिल जाएगी और दुकानदारों को भी एक निश्चित स्थान पर व्यापार करने की आज़ादी होगी।

नगरायुक्त सी.पी सिंह ने “हमारा गाज़ियाबाद” से हुई विशेष बातचीत में बताया कि गाज़ियाबाद नगर निगम, उत्तर प्रदेश पथ विक्रेता (जीविका संरक्षण और पथ विक्रय विनियमन) नियमावली – 2017 के अनुपालन में निगम सबसे पहले शहर में एक पथ विक्रय (स्ट्रीट वेंडर्स) समिति का गठन करेगा, यह समिति निगमकर्मियों की मदद से निगम के क्षेत्र में आने वाले सभी स्ट्रीट वेंडर्स (ठेला पटरी वाले) का सर्वेक्षण कर उनका रजिस्ट्रेशन करेगी। उसके बाद सभी स्ट्रीट वेंडर्स को प्रमाण पत्र जारी किए जायेंगे साथ ही ठेला पटरी लगाने के लिए स्थानों का सीमांकन, नये बाज़ार (स्ट्रीट वेंडर जोंस) बनाना और स्ट्रीट वेंडर्स को वहां पुर्नस्थापित करने का काम भी कर लिया जायेगा। नगर आयुक्त ने बताया कि यह सभी काम 30 अक्तूबर 2017 तक संपन्न हो जायेंगे।

क्या है समय सीमा

  • पथ विक्रय समिति का गठन – 15 जुलाई 2017
  • वेंडिंग/ नो वेंडिंग जोन्स का चिन्हांकन – 15 अगस्त 2017
  • स्ट्रीट वेंडर्स का सर्वेक्षण – 30 अगस्त 2017
  • स्ट्रीट वेंडर्स का पंजीकरण – 30 सितम्बर 2017
  • स्ट्रीट वेंडर्स को प्रमाण पत्र देना – 15 अक्तूबर 2017
  • स्ट्रीट वेंडर्स को परिचय पत्र – 30 अक्तूबर, 2017

पथ विक्रय समिति क्या है और कौन होंगे इसके सदस्य

उत्तर प्रदेश पथ विक्रेता (जीविका संरक्षण और पथ विक्रय विनियमन) नियमावली – 2017 के अनुसार गाज़ियाबाद नगर निगम एक पथ विक्रय समिति का गठन करेगा। इस समिति का कार्यकाल 5 साल का होगा। इस समिति के अध्यक्ष स्वयं नगरायुक्त होंगे। इसके अलावा इसमें कम से कम 20 और अधिक से अधिक 40 सदस्य हो सकते हैं। इन सदस्यों में 10% गैर सरकारी संगठनों के प्रतिनिधि और नगरायुक्त द्वारा नामित योग्यता के आधार पर गणमान्य व्यक्ति, 40% स्ट्रीट वेंडर्स के प्रतिनिधि जिनमें महिलाएं, अनुसूचित जाति और जन जातियों से संबंध रखने वाले स्ट्रीट वेंडर्स शामिल हैं। इसके अलावा इस समिति में दो पार्षद,
नगर पालिका के स्वास्थ्य अधिकारी, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक (यातायात) का एक प्रतिनिधि, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक द्वारा नामित सीओ स्तर का अधिकारी, बाजार संगठन या व्यापार मंडल के अधिकतम दो सदस्य
नगर आयुक्त द्वारा नामित कल्याण संघों के दो प्रतिनिधि, जिला मजिस्ट्रेट द्वारा नामित प्रशासन का एक प्रतिनिधि व लीडिंग बैंक (स्टेट बैंक) द्वारा नामित एक प्रतिनिधि के अलावा समाज के कई अन्य हिस्सों के प्रतिनिधि शामिल होंगे।

समिति का काम
समिति गाज़ियाबाद नगर निगम के आधीन आने वाले सभी जोन्स में दुकान चला रहे स्ट्रीट वेंडरों का सर्वेक्षण कर उनकी क्षेत्रवार लिस्ट बनाएगी। उसके बाद उन सभी स्ट्रीट वेंडर्स को प्रमाण पत्र जारी किए जायेंगे। इस समिति का काम स्ट्रीट वेंडर्स के लिए स्पेशल वेंडिंग जोन्स बनाकर सभी वेंडर्स को वहां पुर्नस्थापित करना भी होगा। यदि कोई स्ट्रीट वेंडर नियमों के तहत काम नहीं करता है तो यह समिति उसका लाइसेंस रद्द भी कर सकती है। इसके अलावा यह समिति साप्ताहिक बाज़ारों के लिए स्थान व दुकानदारों का भी चयन करेगी। यह समिति गाज़ियाबाद के लिए एक स्ट्रीट वेंडर्स चार्टर भी बनाएगी जिसका अनुपालन सभी स्ट्रीट वेंडर्स को करना होगा।

(हमारा गाज़ियाबाद के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.) यदि आप व्हाट्स एप के माध्यम से गाज़ियाबाद की ख़बरें पाना चाहते हैं तो इस लिंक पर क्लिक कर आप हमारे ग्रुप्स से जुड़ सकते हैं. https://goo.gl/ho2rbI