ताज़ा खबर :
prev next

सफ़लता : सेना की मदद से पत्थरबाजों के बीच से निकले 9 कश्मीरी होनहार, करेंगे आईआईटी की पढ़ाई

सफ़लता : सेना की मदद से पत्थरबाजों के बीच से निकले 9 कश्मीरी होनहार, करेंगे आईआईटी की पढ़ाई

श्रीनगर। रोज सेना के जवानों पर बरसते पत्थर और आतंकियों से मुठभेड़, धरने, प्रदर्शन कश्मीर का नाम आते ही सबसे पहले इन्ही चित्रों से हमारा सामना होता है, लेकिन ज़रा और अन्दर जाकर देखें तो कहानी कुछ और ही बनती नजर आती है। भारतीय सेना के द्वारा आईआईटी प्रवेश परीक्षा की तैयारी के लिए चलाए जा रहे सुपर-40 के नौ कश्मीरी छात्रों ने आईआईटी-जेईई (एडवांस्ड) परीक्षा पास की है।

ये छात्र अब देश के सर्वाधिक प्रतिष्ठित इंजीनियरिंग कॉलेजों आईआईटी में प्रवेश ले सकेंगे। भारतीय सेना ने बिहार के सुपर-30 की तर्ज पर कश्मीर में युवाओं को आईआईटी की राह दिखने के लिए सुपर-40 बनाया था। भारतीय सेना पिछले तीन सालों से सुपर-40 के बच्चों को देश की अति-प्रतिष्ठित आईआईटी में प्रवेश की तैयारी करा रही है।

भारतीय सेना पिछले कुछ समय से कश्मीर में आंतकवाद निरोधकों अभियानों और पत्थरबाजों से निपटने के तरीको को लेकर सुर्खियों में रही है। लेकिन इस तरह के सकारात्मक कदमों को न तो मीडिया में जगह मिली है, न ही कश्मीर के अलगाववादी नेताओं ने इसे अपने भाषणों में जगह दी है।

गौरतलब हैं कि, इससे पहले भारतीय सेना के इस साल के सुपर-40 बैच में 26 स्थानीय लड़के और दो लड़कियों ने आईआईटी-जेईई (मेन्स) की परीक्षा पास की थी। सुपर-40 के कुल 35 में से 28 छात्रों ने आईआईटी-जेईई (मेन्स) निकाला है । सुपर-40 के 80 प्रतिशत छात्र आईआईटी-जेईई (मेन्स) निकालने में सफल रहे। इस साल के सुपर-40 की खास बात ये रही कि इस साल पांच लड़कियों ने इसमें शामिल हुई थीं जिनमें से दो ने आईआईटी-जेईई (मेन्स) पास किया।

कश्मीर में भारतीय सेना के होनहार जवान द सेंटर फॉर सोशल रिस्पॉन्सिबिलिटी एंड लर्निंग (सीएसआरएल) और पेट्रोनेट एनएलजी के साथ मिलकर श्रीनगर में सुपर-40 की कोचिंग चलाते हैं है। सुपर-40 का मुख्य उद्देश्य जम्मू-कश्मीर के प्रतिभाशाली और वंचित बच्चों की मदद करना है। इस सफलता पर भारतीय सेना प्रमुख बिपिन रावत ने सुपर-40 के छात्रों से मिलकर उन्हें बधाई दी।

हमारा गाज़ियाबाद के एंड्राइड ऐप के लिए आप यहाँ क्लिक कर सकते हैंआप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो भी कर सकते हैं।

By दुर्गेश तिवारी : Sunday 17 दिसंबर, 2017 02:03 AM