ताज़ा खबर :
prev next

केंद्र सरकार की नई नीति के विरोध में दवा विक्रेताओं ने की हड़ताल

केंद्र सरकार की नई नीति के विरोध में दवा विक्रेताओं ने की हड़ताल

गाज़ियाबाद | केंद्र सरकार द्वारा लागू की गई ई-पोर्टल पालिसी के विरोध में आज गाज़ियाबाद के दवा विक्रेताओं ने आज एक दिन की सांकेतिक हड़ताल रखी। डिस्ट्रिक्ट गाज़ियाबाद केमिस्ट एंड ड्रगिस्ट एसोसिएशन द्वारा आयोजित इस हड़ताल के फलस्वरूप आज शहर के अधिकांश मेडिकल स्टोर बंद हैं।

एसोसिएशन के महासचिव राजीव त्यागी ने बताया कि सरकार की नई पालिसी से दवा विक्रेताओं के व्यवसाय पर विपरीत प्रभाव पड़ेगा। उन्होंने बताया कि नई नीति के तहत अब सभी दवा विक्रेताओं को दवा से सम्बंधित सभी जानकारी एक पोर्टल पर अपलोड करनी होगी। साथ ही उन्हें डॉक्टर द्वारा दी जाने वाली दवा की पर्ची भी पोर्टल अपलोड करनी होगी। यह नियम फुटकर दवाई विक्रेताओं पर भी लागू होंगे। राजीव का कहना है कि इस नई नीति से छोटे दवा विक्रेताओं को अनावश्यक परेशानियों का सामना करना पड़ेगा। अकेले नई बस्ती क्षेत्र से ही प्रतिदिन करोड़ों रुपयों की दवाइयों का कारोबार होता है, इस प्रकार हर पर्ची तथा उसके अनुसार दी गई दवाई की जानकारी पोर्टल पर अपलोड करना छोटे व्यापारियों के बूते की बात नहीं। इसके लिए उन्हें कप्यूटर, इन्टरनेट कनेक्शन आदि भी खरीदने होंगें जो अनावश्यक खर्चा ही है।

आज गाज़ियाबाद के दवा विक्रेताओं ने जिलाधिकारी के माध्यम से प्रधानमंत्री को संबोधित एक ज्ञापन भी सौंपा। ज्ञापन देने वाले दवा व्यापारियों में एसोसिएशन के कार्यकारी अध्यक्ष ह्रदयेश कंसल, संगठन मंत्री हेमंत मलिक, मंत्री दीपक अग्रवाल, राजदेव त्यागी, देवेन्द्र राणा, राजकुमार चौधरी, संदीप खन्ना, विकास शर्मा, योगेश अग्रवाल, मोहित, रंजीत नागर, अभिमन्यु, प्रवीण चौधरी व एसोसिएशन के कई अन्य सदस्य शामिल थे।

(हमारा गाज़ियाबाद के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.) यदि आप व्हाट्स एप के माध्यम से गाज़ियाबाद की ख़बरें पाना चाहते हैं तो इस लिंक पर क्लिक कर आप हमारे ग्रुप्स से जुड़ सकते हैं. https://goo.gl/ho2rbI