ताज़ा खबर :
prev next

फिल्म के बीच में राष्ट्रगान बजा तो खड़े होने की जरूरत नहीं, शुरू में रहेगा अनिवार्य- SC

फिल्म के बीच में राष्ट्रगान बजा तो खड़े होने की जरूरत नहीं, शुरू में रहेगा अनिवार्य- SC

नई दिल्ली। अगर फिल्म की कहानी में राष्ट्रगान बजता है तो आपको अब सिनेमाघरों में खड़े होने की जरूरत नहीं है। आज सुप्रीम कोर्ट ने एक अहम फैसले में कहा है कि लोगों को फिल्म के दौरान राष्ट्रगान में खड़े होने के लिए बाध्य नहीं किया जा सकता है। इस मुद्दे पर बहस की जरूरत है। सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई के दौरान केंद्र सरकार ने कहा कि अभी इस मामले को लेकर देश में कोई कानून नहीं है। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि हम नैतिकता के पहरेदार नहीं हैं, मुद्दे पर बहस हो। हालांकि फिल्म से पहले बजने वाले राष्ट्रगान पर खड़ा होना अनिवार्य है। मतलब अगर फिल्म की कहानी में राष्ट्रगान है तो आपको अपनी सीट छोड़ खड़े होने की जरूरत नहीं है।

आपको बता दें कि दिसंबर में सुप्रीम कोर्ट ने सिनेमाघरों में राष्ट्रगान बजाने और सभी दर्शकों को सम्मान में खड़ा होने को कहा था। सुप्रीम कोर्ट ने यह भी कहा था कि राष्ट्रीय गान बजते समय सिनेमाहॉल के पर्दे पर राष्ट्रीय ध्वज दिखाया जाना भी अनिवार्य होगा। लेकिन दंगल जैसी फिल्म में फिल्म के दौरान दोबारा राष्ट्रगान बजने पर लोगों को दोबारा खड़ा होना पड़ा था। इसी असुविधा को देखते हुए कोर्ट का ये फैसला अहम साबित हो सकता है।


हमारा गाज़ियाबाद के एंड्राइड ऐप के लिए आप यहाँ क्लिक कर सकते हैंआप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो भी कर सकते हैं।

By नूतन गुप्ता : Tuesday 26 सितंबर, 2017 05:31 AM