ताज़ा खबर :
prev next

अस्थायी कर्मचारियों को “समान काम के लिए मिले समान वेतन” – सुप्रीमकोर्ट

अस्थायी कर्मचारियों को “समान काम के लिए मिले समान वेतन” – सुप्रीमकोर्ट

sheweta_kumariनई दिल्ली । सुप्रीमकोर्ट ने देश के लाखों अस्थायी कर्मचारियों को राहत देते हुए एक फैसला दिया है। सुप्रीम कोर्ट ने सभी अस्थायी कर्मचारियों को स्थायी कर्मचारियों के बराबर वेतन मिलना की बात रखी है। चाहिए। देश की सर्वोच्च अदालत ने कहा कि “समान काम के लिए समान वेतन के सिद्धांत” पर अमल होना ही चाहिए।

अदालत के इस फैसले से कॉन्ट्रैक्ट पर काम कर रहे लाखों कर्मचारी को बड़ी राहत मिलेगी। वो सभी इस फैसले से लाभान्वित होंगे। जस्टिस जे.एस. केहर और जस्टिस ए.सए. बोबड़े की पीठ ने अपने फैसले में कहा कि “समान काम के लिए समान वेतन” के तहत हर कर्मचारी को ये अधिकार है कि वो नियमित कर्मचारी के बराबर वेतन पाए।





पीठ ने अपने फैसले में कहा, “हमारी सुविचारित राय में कृत्रिम प्रतिमानों के आधार पर किसी की मेहनत का फल न देना गलत है। समान काम करने वाले कर्मचारी को कम वेतन नहीं दिया जा सकता। ऐसी हरकत न केवल अपमानजनक है बल्कि मानवीय गरिमा की बुनियाद पर कुठाराघात है।”

सुप्रीम कोर्ट की पीठ ने आगे कहा कि, “कोई भी अपनी मर्जी से कम वेतन पर काम नहीं करता। वो अपने सम्मान और गरिमा की कीमत पर अपने परिवार के भरण-पोषण के लिए इसे स्वीकार करता है। वो अपनी और अपनी प्रतिष्ठा की कीमत पर ऐसा करता है क्योंकि उसे पता होता है कि अगर वो कम वेतन पर काम नहीं करेगा तो उस पर आश्रित इससे बहुत पीड़ित होंगे।”

 

 

हमारा गाज़ियाबाद के एंड्राइड ऐप के लिए आप यहाँ क्लिक कर सकते हैंआप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो भी कर सकते हैं।