ताज़ा खबर :
prev next

बिजली चोरी में भी स्मार्ट है गाजियाबाद

बिजली चोरी में भी स्मार्ट है गाजियाबाद

गाजियाबाद । स्मार्ट सिटी की दौड़ में शामिल गाजियाबाद बिजली चोरी की एफआईआर के मामलों में उत्तर प्रदेश में तीसरे नंबर पर है। गृह मंत्रालय की ओर से जारी एनसीआरबी (नेशनल क्राइम रिपोर्ट ब्यूरो) के आंकड़ों (2015) के आधार पर यह खुलासा हुआ है। आंकड़ों के मुताबिक बिजली चोरी के 9577 मामलों में 1308 मामले सिर्फ गाजियाबाद के हैं। वहीं, बिजली चोरी में आगरा प्रदेश का पहला और कानपुर दूसरे नंबर का जिला है। वहीँ अन्य जगहों कि बात करे तो इलाहाबाद में कुल 394 मामले और लखनऊ में 214 मामले दर्ज हैं।

गाजियाबाद जिले में बिजली चोरी के सबसे ज्यादा मामले लोनी क्षेत्र के हैं। बीते साल पावर कारपोरेशन ने यहां अभियान चलाकर एक-एक दिन में 20-20 लोगों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई थी। गाजियाबाद जिले में मकानों और बिजली कनेक्शनों की संख्या का बड़ा अंतर भी बिजली चोरी की पुष्टि कर रही है। जिले में मकानों की संख्या- 961264 है, जबकि बिजली कनेक्शनों की संख्या महज 633503 है। जिसका मतलब होता है, बाकि घरों में बिजली चोरी की जा रही है। बात यहीं ख़त्म नहीं होती, मकानों में जरूरत से कम लोड पास कराकर भी बिजली चोरी की जा रही है। इसके अलावा उद्योगों में भी बिजली की चोरी होती है।

हालांकि पावर कारपोरेशन का दावा है कि अब जिले में सिर्फ 22 फीसदी लाइन लॉस है। यह लॉस लगातार घट रहा है। लोगों में जागरूकता लाकर बिजली चोरी में कमी लाई जा रही है। यहां सबसे ज्यादा बिजली चोरी लोनी क्षेत्र, विजयनगर क्षेत्र, कैला भट्ठा क्षेत्र, मूसरी समेत अन्य ग्रामीण क्षेत्रों में होते है।

 

 

By श्वेता कुमारी : Tuesday 26 सितंबर, 2017 05:39 AM