ताज़ा खबर :
prev next

शाबाश गाज़ियाबाद – चन्द्र मोहन गर्ग ने किया शहर का नाम रौशन

शाबाश गाज़ियाबाद – चन्द्र मोहन गर्ग ने किया शहर का नाम रौशन

गाज़ियाबाद | नेहरू नगर में रहने वाले 28 वर्षीय चंद्र मोहन ने प्रतिष्ठित यूपीएससी परीक्षा में 25वां स्थान हासिल कर शहर का नाम रौशन कर दिया। यह मुकाम हासिल करने के लिए उन्होंने गुरुग्राम की एक कंपनी में अपनी लगी लगाई नौकरी छोड़ दी।
पेशे से इंजीनियर चंद्र मोहन ने बताया कि मैंने 2012 में नेताजी सुभाष इंस्टीट्यूट से इंजीनियरिंग कि डिग्री प्राप्त की और कॉलेज में ही कैम्पस प्लेसमेंट के माध्यम से मेरा चयन गुरुग्राम कि एक मल्टीनेशनल कंपनी में हो गया। वहाँ मुझे 7 लाख रुपये का शुरुआती पैकेज़ मिला। मगर मेरा लक्ष्य तो आईएएस बनना ही था। यही कारण है कि मैं वहाँ ज्वाइन करने के 16 महीने बाद ही नौकरी छोड़ आईएएस कि तैयारी शुरू कर दी। उन्होंने आगे बताया कि 15 साल कि उम्र से ही मेरा सपना एक आईएएस ऑफिसर बनने का था।
चंद्र मोहन ने पिछले साल भी आईएएस कि परीक्षा पास कर ली थी मगर उनका रैंक 617 आया था जिससे वे संतुष्ट नहीं थे। हालांकि उनका चयन भारतीय डाक सेवा में हो गया था मगर मन तो और अच्छा करने में ही लगा था इसलिए उन्होंने अपनी तैयारियां जारी रखी।
चंद्र मोहन ने बताया कि उनके पिता एमएमएच कॉलेज में प्रोफेसर थे मगर अब रिटायर हो चुके हैं। उनकी माताजी एक कुशल ग्रहणी हैं। अपनी 10वीं कक्षा कि परीक्षा में सर्वाधिक नंबर लाने वाले गाज़ियाबाद के वे दूसरे छात्र थे। बस वहीं से कुछ कर दिखाने का जज़्बा उन में रच बस गया। बस फिर क्या था, अच्छे नंबरों कि वजह से एक प्रतिष्ठित इंजीनियरिंग कॉलेज में उनका दाखिला हो गया, और फिर अच्छी नौकरी भी लग गयी। मगर पैसे के लिए काम करना उनकी फितरत नहीं थी। उनकी इच्छा तो समाज के लिए कुछ कर गुजरने की थी और उन्हें इसके लिए आईएएस बनना एक अच्छा माध्यम लगा। पिछले साल अच्छा रैंक न पाने के कारण चंद्र मोहन लगभग टूट से गए थे मगर उनके माता पिता ने उनकी हिम्मत बंधाई और फिर से प्रयास करने कि प्रेरणा दी।
हमारा गाज़ियाबाद परिवार की ओर से चंद्र मोहन को हार्दिक बधाई और उज्ज्वल भविष्य के लिए शुभकामनायें। उम्मीद है उनसे प्रेरणा लेकर और बच्चे भी शहर का नाम रौशन करेंगे।
1-HG-Mobile-Application

By विशाल पंडित : Tuesday 26 सितंबर, 2017 05:37 AM