ताज़ा खबर :
prev next

“बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ” के लिए घर-घर फैलाएँ जागरूकता

“बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ” के लिए घर-घर फैलाएँ जागरूकता

गाज़ियाबाद। जिलाधिकारी विमल कुमार शर्मा ने कहा कि “बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ” अभियान की सफलता में आम जनता की भागीदारी सुनिश्चित करने के लिये घर-घर जागरूकता फैलायें। उन्होंने कहा कि यह कार्य केवल कुछ लोगों का ही नहीं है बल्कि बेटियां बेटों के समानान्तर ही न हो वह समानान्तर दिखाई भी दें इसके लिए हम सबका उत्तरदायित्व और ज़िम्मेदारी भी है कि हम सब मिलकर बेटियों की मजबूती के लिये कार्य करें।

DSCN2624

जिलाधिकारी विमल कुमार शर्मा आज मंगलवार को एबीईएस कॉलेज में सर्व शिक्षा अभियान के तत्वाधान में बालिका शिक्षा के अंतर्गत आयोजित जनपद स्तरीय “बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ” मेले का दीप प्रवज्जलन करने के बाद उपस्थित जन समूह को सम्बोधित कर रहे थे। जिलाधिकारी ने कहा कि बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ के लिए सबसे पहले हमें भूण हत्या को रोकना होगा क्योंकि गिरता हुआ लिंग अनुपात इसका शुभ संकेत नहीं है। उन्होंने कहा कि हमने जनपद में पीएनडीटी एक्ट के तहत भी प्रभावी कार्यवाही करने के सख्त निर्देश दिये हैं।  जिलाधिकारी ने निर्देश दिये कि नारी की पूजा से ही घरों में देवताओं का वास होता हैऔर ये नारी पूजा हमारी संस्कृति भी है। हम कार्यक्रम से पहले भी मां सरस्वती का बन्दन व नमन करते हैं। उन्होंने कहा कि यदि लड़कियां नहीं होंगी तो लड़के कहाँ से होंगे। यह निश्चित है कि एक पढ़ी लिखी लड़की दो परिवारों को संस्कार वान बनाती है। हमें हर परिवार में इसी सोच को पहुँचाना हैऔर यह सोच सभी के समन्वित प्रयासों से ही जागरूकता लाकर ही लायी जा सकती है। इसलिए हम सब बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान की सार्थक सफलता के लिए एक जुटता के साथ समाज के निम्न स्तर तक पहुंचे ताकि आम आदमी जान सके बेटियों का होना और उनका मजबूत बना रहना हमारे समाज के लिये कितना ज़रूरी है।

जिलाधिकारी ने कहा कि इस अभियान के लिये न केवल राज्य सरकार बल्कि पूरा प्रशासन सनसेवी संस्थाएं शिक्षा विभागएवं मेडिकल विभाग सहित सभी लोग कृतसंकल्पित हैं और इसके लिए भी हम दृढ प्रतिज्ञ है कि हमें बेटी को पढ़ाना हैऔर आगे बढ़ाना है। लेकिन कोई भी अभियान तभी सफल होता है जब उसमें आम जन की भागीदारी बढ़ती है। इसलिए इस मिशन में भी आम जन को जोड़ा जाये तभी हम वास्तविकता के धरातल पर सफलता प्राप्त कर सकेंगे। जिलाधिकारी ने कहा कि आज ग्राम पंचायतों में नव निर्वाचित ग्राम प्रधानों ने बागडोर संभाली है और काफी तादात में महिला प्रधान भी बनी है महिला प्रधानों सहित सभी जन प्रतिनिधियों की यह जिम्मेदारी बनती है कि वे बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान को अंगीकृत कर घर-घर बेटी के सशक्तीकरण के लिए अलख जगाएँ। जिलाधिकारी ने कहा कि इस कार्यक्रम के अंतर्गत आज परिषदीय विद्यालयों के नन्हें-मुन्ने बच्चों ने मनमोहक तथा शिक्षाप्रद कार्यक्रम आयोजित किये हैं। अब हमारे परिषदीय सरकारी स्कूल के बच्चे भी निजी स्कूलों के समान अच्छे कार्यक्रम आयोजित कर रहे हैं और हमारे परिषदीय स्कूलों में भी शिक्षा का स्तर मजबूत हुआ है।

जिलाधिकारी ने इस अवसर पर सैन्त्ली गांव की ग्राम प्रधान अर्णियाँ त्यागी भोजपुर से सुचेता, मीणा मंच से तरना, बन्थला की सीमा, अटोर गांव की रेखा, करेहड़ा की पिंकी, ज्योति, वैशाली स्कूल की अंजू, समाख्या समन्वयक नीतू सिंह, अदिति, निशा ठाकुर, शोभा, नीतू मुरादनगर, रीना पाठक, अनुराधा, प्रन्सी सादव, अनु, बबीता, गजाला, इंद्रा चौहान, पूनम शर्मासहित कई महिलाओं और बालिकाओं को सम्मानित किया।

DSCN2659

इस अवसर पर मुख्य विकास अधिकारी कृष्णा करूणेश जिला बेसिक शिक्षाधिकारी डॉ. प्रवेश यादव, कॉलेज के निदेशक, नीरज गोयल, मंत्री सुरेन्द्र कुमार, प्रीति मित्तल, विनिता त्यागी, सहित अन्य गणमान्य अतिथि विभिन्न स्वयं सेवी संस्थाओं के पदाधिकारी आदि उपस्थित थे। कार्यक्रम का संचालन पूनम शर्मा ने किया।

1-HG-Mobile-Application

By हमारा गाज़ियाबाद ब्यूरो : Saturday 23 सितंबर, 2017 16:16 PM