ताज़ा खबर :
prev next

पीएचडी के छात्र और आईपीएस अधिकारी के भाई समेत अनेक हुए हिजबूल मुजाहिदीन में शामिल, बुरहान की बरसी पर जारी हुई लिस्ट

पीएचडी के छात्र और आईपीएस अधिकारी के भाई समेत अनेक हुए हिजबूल मुजाहिदीन में शामिल, बुरहान की बरसी पर जारी हुई लिस्ट

गाज़ियाबाद | मुस्लिम आतंकवादी संगठन हिजबूल मुजाहिदीन ने दावा किया है कि एक आईपीएस ऑफिसर के भाई समेत 20 से भी ज्यादा युवकों ने आतंकी संगठन जॉइन कर लिया है। मुजाहिदीन के कमांडर बुरहान वानी की बरसी पर जारी की गई इस लिस्ट में शम्स-उल-हक का नाम भी है जो आईपीएस अधिकारी का भाई है। लगभग 30 दिन पहले शोपियाँ स्थित उसके पाइटरक निवास में हुई मुठभेड़ में 7 मुस्लिम आतंकवादी मारे गए थे। हिजबूल द्वारा सोशल नेटवर्किंग साइटों पर जारी की गई पोस्ट में में शम्स-उल-हक समेत सभी 20 नए आतंकवादी हथियारों के साथ नजर आ रहे हैं। वही जम्मू कश्मीर पुलिस का कहना है कि हिजबूल में शामिल हुए इन आतंकवादियों के बारे में उन्हें पहले से ही जानकारी थी।

अँग्रेजी अखबार इंडियन एक्सप्रेस को दिए साक्षात्कार में एक पुलिस अफसर ने कहा कि बीते दो महीने से उन्होंने (आतंकी संगठन ने) अपने नए रंगरूटों की तस्वीरें सोशल मीडिया पर नहीं डाली थीं। वे शायद इस दिन का इंतजार कर रहे थे। पुलिस अफसर ने कहा कि इतने सारे लोगों की तस्वीरें जारी करना आतंकवाद को चमकदार ढंग से पेश करने की कोशिश हो सकती है। उन्होंने कहा, ‘ऐसा लगता है कि उन्होंने जानबूझकर बुरहान वानी की बरसी का दिन चुना। बुरहान ही वह शख्स था जिसने आतंकवाद की तरफ युवाओं को आकर्षित करने के लिए सबसे पहले सोशल मीडिया का इस्तेमाल किया।’ बता दें कि आतंकी संगठन में शामिल होने वाले अधिकतर नए रंगरूट दक्षिणी कश्मीर से हैं। इसके अलावा, उत्तरी और मध्य कश्मीर से भी हैं।

इन आतंकियों में शम्स-उल-हक, वसीम अहमद रादर, तौसीफ अहमद ठोकर, इरफान राशिद डार और फिरोज अहमद डार भी शामिल हैं। हक मूल रूप से दक्षिणी कश्मीर के शोपियां के एक गांव का रहने वाला है और श्रीनगर के हैदरपुरा में रह रहा था। लापता होने से पहले वह यूनानी मेडिसीन के कोर्स में डिग्री ले रहा था। वहीं, वसीम अहमद रादर दक्षिणी कश्मीर के कुलगाम का रहने वाला है। अंग्रेजी में मास्टर्स डिग्री करने के बाद वह डॉक्टरेट कर रहा था। तौसीफ अहमद ठोकर अवंतीपुरा का रहने वाला है। उसने गणित में मास्टर्स की डिग्री ली है। आतंकी संगठन में शामिल होने वालों में एक स्पेशल पुलिस ऑफिसर इरफान राशिद डार भी है। वह 27 जून को पंपोर स्थित पुलिस स्टेशन से अपनी सर्विस राइफल के साथ फरार हो गया था।

हमारा न्यूज़ चैनल सबस्क्राइब करने के लिए यहाँ क्लिक करें।
Follow us on Facebook http://facebook.com/HamaraGhaziabad
Follow us on Twitter http://twitter.com/HamaraGhaziabad