ताज़ा खबर :
prev next

बंदरों की समस्या से गाज़ियाबाद है परेशान, निगम ने पकड़े तो बजरंग दल और पशु प्रेमियों ने किया हँगामा

बंदरों की समस्या से गाज़ियाबाद है परेशान, निगम ने पकड़े तो बजरंग दल और पशु प्रेमियों ने किया हँगामा

गाज़ियाबाद | गाज़ियाबाद के नागरिकों को बंदरों के आतंक से मुक्ति दिलाने की मांग काफी समय से उठती रही है। शहर का ऐसा कोई भी इलाका न होगा जहां से हर रोज़ बंदरों के काटने की शिकायतें न मिल रही हों। शहरवासियों को इन्हीं समस्याओं से निजात दिलाने के लिए गाज़ियाबाद नगर निगम की ओर से बंदरों को पकड़ने के लिए एक विशेष अभियान चलाया गया जिसकी शुरुआत नंदग्राम से हुई। मगर अभियान शुरू होते ही बजरंग दल व पीएफए (पीपुल फॉर एनीमल) के लोग पहुंच गए व जमकर हंगामा किया।
आपको बता दें कि पिछले दिनों नगर निगम बोर्ड बैठक में बंदरों को पकड़कर शहर के बाहर जंगल में छोड़ने का प्रस्ताव पास हुआ था। इस को लेकर नगर निगम ने टेंडर किए व 128 रुपये प्रति बंदर पकड़ने का ठेका एक मथुरा की फर्म को दिया। इसके लिए निगम से शासन से भी मंजूर ली। ठेकेदार ने पकड़ने के बाद इन बंदरों को नंदग्राम स्थित सामुदायिक केंद्र में एक बड़े पिजरे में रखा । बंदरों को यहां लाकर बंद करने की सूचना पर आसपास के लोगों परेशान हो गए। उन्होंने पुलिस को फोन कर दिया कि कई बंदर मर गए हैं। इस पर बजरंग दल व पीएफए के लोग मौके पर पहुंचे और जमकर बवाल मचाया। पुलिस व नगर निगम के अधिकारी जब मौके पर पहुंचे तो बंदरों के मरने की बात झूठी पाई गई और केवल चार बंदर घायल पाए गए।
मौके पर पहुंचे अपर नगरायुक्त आरपी पाण्डेय ने मौके पर पहुंचकर व्यवस्था की जांच की। इसमें पाया गया कि एक बड़े पिजरे में 69 बंदरों को रखा गया था। इसमें चार बंदर घायल अवस्था में थे। बजरंगदल व पीएफए के लोगों ने मांग की कि इन बंदरों के लिए कई और पिंजरों की व्यवस्था की जाए। गर्मी के कारण यहां कूलर लगाए जाए व जिस स्थान से बंदर पकड़े जाए वहां के बंदरों को एक साथ अलग पिंजरे में रखा जाय। इन सभी मांगों को मानते हुए निगम अधिकारियों ने तुरंत व्यवस्था करने के निर्देश दिए हैं।

हमारा न्यूज़ चैनल सबस्क्राइब करने के लिए यहाँ क्लिक करें।
Follow us on Facebook http://facebook.com/HamaraGhaziabad
Follow us on Twitter http://twitter.com/HamaraGhaziabad
Subscribe to our News Channel