ताज़ा खबर :
prev next

कर्नाटक के मुख्यमंत्री का आज होगा फ्लोर टेस्ट, बीजेपी ने भी ठोकी विधान सभा अध्यक्ष की दावेदारी

कर्नाटक के मुख्यमंत्री का आज होगा फ्लोर टेस्ट, बीजेपी ने भी ठोकी विधान सभा अध्यक्ष की दावेदारी

बेंगलुरु | कर्नाटक के मुख्यमंत्री एच डी कुमारस्वामी आज (शुक्रवार) विधान सुधा में बहुमत परीक्षण का सामना करेंगे और इसके साथ ही राज्य में दस दिनों से चल रही राजनीतिक अस्थिरता का अंत हो जायेगा। बहुमत परीक्षण के लिए आज दोपहर 12:15 बजे विधानसभा का सत्र बुलाया गया है। शक्ति परीक्षण से पहले विधानसभा अध्यक्ष का चुनाव होगा। हाल ही में हुए विधानसभा चुनावों के बाद कांग्रेस के 78 विधायक हैं, जबकि कुमारस्वामी की जद (एस) के 36 और बसपा का एक विधायक हैं। गठबंधन ने केपीजेपी के एकमात्र विधायक और एक निर्दलीय विधायक के समर्थन का भी दावा किया है जबकि कुमारस्वामी ने दो सीटों पर जीत दर्ज की थी।

इससे पहले कर्नाटक भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ सदस्य के बी. एस. येदियुरप्पा ने 17 मई को मुख्यमंत्री पद की शपथ ली थी, लेकिन सदन में विश्वास मत हासिल करने से पहले ही उन्होंने इस्तीफा देने की घोषणा कर दी थी। शपथ लेने के बाद कुमारस्वामी ने विश्वास मत हासिल किये जाने के बारे में विश्वास जताया था, लेकिन उन्होंने आशंका भी जताई थीं कि उनकी सरकार को गिराने के लिए भाजपा ‘‘ऑपरेशन कमल’’ दोहराने का प्रयास कर सकती है।
क्या है ऑपरेशन कमाल
‘‘ऑपरेशन कमल’’ या ‘‘ऑपरेशन लोटस’’ नाम के शब्द 2008 में उस वक्त इस्तेमाल किए गए थे, जब भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष बी.एस. येदियुरप्पा ने मुख्यमंत्री पद संभाला था। पार्टी को साधारण बहुमत के लिए तीन विधायकों की दरकार थी। ‘‘ऑपरेशन कमल’’ के तहत कांग्रेस और जेडीएस के कुछ विधायकों को भाजपा में शामिल होने के लिए राजी किया गया था। उनसे कहा गया था कि वे विधानसभा की अपनी सदस्यता छोड़कर फिर से चुनाव लड़ें। उनके इस्तीफे की वजह से विश्वास मत के दौरान जीत के लिए जरूरी संख्या कम हो गई थी और फिर येदियुरप्पा विश्वास मत जीत गए थे।

भाजपा ने ठोकी विधानसभा अध्यक्ष पद की दावेदारी

भाजपा ने विधानसभा अध्यक्ष पद के लिए अपने वरिष्ठ नेता और पांच बार के विधायक एस सुरेश कुमार को उतारा है। जबकि कांग्रेस के रमेश कुमार ने सत्तारूढ़ गठबंधन के उम्मीदवार के रूप में इस पद के लिए अपना नामांकन भरा। भाजपा उम्मीदवार ने कहा, ‘‘संख्या बल और कई अन्य कारकों के आधार पर हमारी पार्टी के नेताओं को विश्वास है कि मैं जीतूंगा। इसी विश्वास के साथ मैंने नामांकन दाखिल किया है।’’

जब उनसे पूछा गया कि सदन में भाजपा के केवल 104 विधायक हैं तो ऐसे में उनके जीतने की संभावना क्या है, तो सुरेश कुमार ने कहा, ‘‘मैंने नामांकन पत्र दाखिल कर दिया है। कल दोपहर सवा बारह बजे चुनाव है। चुनाव के बाद आपको पता चल जाएगा।’’ कांग्रेस विधायक दल के नेता और पूर्व मुख्यमंत्री सिद्धारमैया ने गठबंधन उम्मीदवार की जीत के बारे में विश्वास जताया। उन्होंने कहा, ‘‘मुझे पता चला है कि भाजपा ने भी नामांकन दाखिल किया है। मुझे उम्मीद है वे नामांकन वापस ले लेंगे. यदि चुनाव होता है तो रमेश कुमार की जीत निश्चित है।’’

हमारा न्यूज़ चैनल सबस्क्राइब करने के लिए यहाँ क्लिक करें।
Follow us on Facebook http://facebook.com/HamaraGhaziabad
Follow us on Twitter http://twitter.com/HamaraGhaziabad
Subscribe to our News Channel