ताज़ा खबर :
prev next

सीओ साहिबाबाद राजेश मिश्र का कमाल, 4 घंटों में छुड़ा लिया 8 माह के अपहृत बच्चे को

सीओ साहिबाबाद राजेश मिश्र का कमाल, 4 घंटों में छुड़ा लिया 8 माह के अपहृत बच्चे को

गाज़ियाबाद | कहते हैं जब नेतृत्व से सही दिशा मिले तो टीम भी अच्छा काम करती है। एसएसपी वैभव कृष्ण जब से गाज़ियाबाद में आए हैं, पुलिस हर रोज़ कोई नया कारनामा कर रही है जिससे कानून व्यवस्था और पुलिस की छवि दोनों ही में निरंतर सुधार हो रहा है। वैभव कृष्ण की टीम के एक नायाब अफसर हैं राजेश मिश्र जो इन दिनों साहिबाबाद क्षेत्र में सर्किल ऑफिसर (सीओ) के पद पर तैनात है।

कल (सोमवार) दोपहर को राजेश को खबर मिली कि साहिबाबाद में टीला मोड़ के पास स्थित अफजलपुर गांव से बाइक सवार बदमाशों ने आठ महीने के बच्चे का अपहरण कर लिया। बदमाशों ने घर में मौजूद तीन अन्य भाई-बहनों को नशीली कोल्ड ड्रिंक पिलाकर बेहोश किया, इसके बाद बच्चे को अगवा कर ले गए। सूचना मिलने के बाद पुलिस ने परिजनों और पड़ोसियों से पूछताछ के बाद बच्चे को चार घंटे में बरामद कर परिजनों के सुपुर्द कर दिया। बच्चे के चाचा ने अपहरण की यह साजिश रची थी। पुलिस ने तीन आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस पूछताछ में आरोपियों ने बताया कि बच्चे का सौदा एक लाख रुपये में किया गया था।

मूलरूप से बझैड़ा थाना जहांगीराबाद, बुलंदशहर के रहने वाले यशवीर अपनी चार बेटी और दो बेटों के साथ टीला मोड़ स्थित अफजलपुर गांव में रहते हैं। वह डेयरी चलाते हैं। सोमवार सुबह करीब 11 बजे यशवीर की पत्नी पूनम ने अपने आठ माह के बेटे पीयूष को नहलाकर घर के बरामदे में लिटाया था। वहां उसकी तीन बहनें और भाई थे। इसके बाद पूनम कपड़े धुलने व अन्य बच्चों को नहलाने के लिए अंदर चली गईं।

उनके जाते ही मोटरसाइकिल पर आए दो लोगों ने तीनों बहन-भाई को नशीली कोल्ड ड्रिंक पिलाई। इसके बाद सभी बच्चों को एक कमरे में बंद कर दिया। करीब पांच मिनट बाद पूनम बाहर आई तो उनके तीन बच्चे बेहोश मिले और आठ महीने का बेटा पीयूष गायब था। अनहोनी की आशंका के चलते पूनम ने तुरंत पति को फोन किया। सूचना मिलने पर मौके पर पहुंची पुलिस ने आसपास के लोगों से पूछताछ शुरू की।

पुलिस को पूछताछ करने पर पता चला कि यशवीर के चचेरे भाई राजेंद्र निवासी बुलंदशहर बच्चे के गायब होने से पूर्व बच्चों के पास ही था। पुलिस को शक हुआ तो राजेंद्र से पूछताछ की। सख्ती से पूछताछ करने पर राजेंद्र ने फर्रुखनगर निवासी शौकीन और नईम के साथ मिलकर बच्चे के अपहरण की बात स्वीकार की। पुलिस ने राजेंद्र की निशानदेही पर शाम तीन बजे फर्रुखनगर स्थित शौकीन के कमरे से बच्चे को बरामद कर लिया।

हमारा न्यूज़ चैनल सबस्क्राइब करने के लिए यहाँ क्लिक करें।
Follow us on Facebook http://facebook.com/HamaraGhaziabad
Follow us on Twitter http://twitter.com/HamaraGhaziabad
Subscribe to our News Channel