ताज़ा खबर :
prev next

आर्क बिशप ने ईसाई समुदाय को पत्र लिखकर मांगी मोदी सरकार दुबारा न बनने की दुआ

आर्क बिशप ने ईसाई समुदाय को पत्र लिखकर मांगी मोदी सरकार दुबारा न बनने की दुआ


नई दिल्ली | राजधानी दिल्ली के आर्क बिशप (कैथोलिक) ने एक विवादास्पद पत्र जारी किया है जिसमें भारत के सभी पादरियों से नरेंद्र मोदी की सरकार दोबारा न बनने के लिए दुआ करने का आह्वान किया गया है। बिशप ने भारत की मौजूदा राजनीतिक स्थिति को ‘अशांत’ करार दिया है। पत्र में आर्क बिशप अनिल काउटो ने लिखा, ‘हम लोग अशांत राजनीतिक माहौल का गवाह बन रहे हैं। इसके कारण संविधान में उल्लिखित लोकतांत्रिक सिद्धांतों और देश के धर्मनिरपेक्ष ताने-बाने के लिए खतरा पैदा हो गया है। देश और राजनेताओं के लिए प्रार्थना करना हमारी पवित्र परंपरा है। आम चुनावों के समीप आने के कारण यह और भी महत्वपूर्ण हो जाता है।’ पत्र में ईसाई समुदाय से देश के लिए हर शुक्रवार को विशेष तौर पर प्रार्थना करने को कहा गया है। ‘वेटिकन न्यूज’ ने ‘यूसीए न्यूज’ के हवाले से बताया कि अनिल काउटो ने कैथोलिक ईसाइयों से अगले साल होने वाले लोकसभा चुनावों के लिए प्रार्थना के साथ हर शुक्रवार को उपवास करने की भी अपील की है, ताकि देश में शांति, लोकतंत्र, समानता, स्वतंत्रता और भाईचारा बरकरार रहे।

आर्क बिशप अनिल काउटो ने देश भर के पादरियों के नाम लिखे पत्र में कहा, ‘हम लोग वर्ष 2019 की ओर बढ़ रहे हैं जब हमें नई सरकार मिलेगी। ऐसे में हमें 13 मई से अपने देश के लिए प्रार्थना अभियान शुरू करना चाहिए।’ नरेंद्र मोदी की सरकार का कार्यकाल मई, 2019 में समाप्त हो रहा है। यह कोई पहला मौका नहीं जब अनिल काउटो ने मोदी सरकार के खिलाफ इस तरह का बयान दिया है। ‘टाइम्स नाउ’ के अनुसार, आर्क बिशप ने गुजरात, मेघालय और नगालैंड विधानसभा चुनावों के दौरान भी कैथोलिक ईसाई समुदाय से ऐसी ही अपील की थी। उस वक्त भी उन्होंने पत्र जारी किया था। इन राज्यों में भाजपा ने अपने दम पर या फिर सहयोगियों की मदद से सरकार बनाने में कामयाब रही।

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) का पक्ष रखने वाले राकेश सिन्हा ने आर्क बिशप के रुख पर कड़ी प्रतिक्रिया जताई है। उन्होंने कहा, ‘यह मिशनरियों द्वारा घरेलू राजनीति में हस्तक्षेप का प्रत्यक्ष मामला है। वे प्रार्थना नहीं कर रहे, बल्कि दुनिया को यह बताने का प्रयास कर रहे हैं कि भारत की मौजूदा सरकार बहुसंख्यकों की सरकार है, अल्पसंख्यकों की नहीं। वह (आर्क बिशप) वैश्विक समुदाय को गलत संकेत दे रहे हैं। वे प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष तौर पर देश के मतदाताओं को प्रभावित कर रहे हैं। यह प्रार्थना नहीं, बल्कि दुष्प्रचार है जिसे सीधे वेटिकन से नियंत्रित किया जा रहा है।’

हमारा न्यूज़ चैनल सबस्क्राइब करने के लिए यहाँ क्लिक करें।
Follow us on Facebook http://facebook.com/HamaraGhaziabad
Follow us on Twitter http://twitter.com/HamaraGhaziabad
Subscribe to our News Channel