ताज़ा खबर :
prev next

शाबाश- बर्फीले तूफान के बीच इस युवा ने वर्जिन पीक पर लहराया तिरंगा

शाबाश- बर्फीले तूफान के बीच इस युवा ने वर्जिन पीक पर लहराया तिरंगा

गाज़ियाबाद। महानगर में प्रतिभा की कमीं नहीं है सभी अवसर मिलने पर ये देश और विदेश में गाज़ियाबाद का नाम रौशन करने से पीछे नहीं हटते। शहर के महज बीस साल के युवा पर्वतारोही ने अब एक और रिकार्ड बनाकर नई उपलब्धि हासिल की है। सागर कसाना ने अरुणाचल प्रदेश की वर्जिन पीक पर तिरंगा झंडा लहराया है।

सागर कसाना ने रक्षा मंत्रालय (भारत सरकार) के अन्तर्गत नेशनल इस्टीट्यूट ऑफ़ मॉउटेनियरिंग एण्ड एलाइड स्पोर्ट्स (निमास) दिरांग वेस्ट केमाँग (अरुणाचल प्रदेश) में एडवांस सीट कन्फर्म कराकर 4 अप्रैल 2018 को दिल्ली से गुवाहाटी एयरपोर्ट पहुंचे। इसके गुवाहाटी से दिसग वेस्ट कैमास (निमास) में जाकर भौगोलिक जानकारी ली। 10 अप्रैल 2018 को न्यूमालिग मागो (चूना बार्ड) जिताग मेरथाग ग्लेशियर ( बेस कैम्प) पहुंचा। वहां माइन्स 18 के तापमान के बीच 22 दिनों तक 25 किलो बैग लेकर पैदल बर्फीली कांटेदार ग्लेशियर पार करते हुए 392 क़ि.मी की चढाई पूरी की और 30 अप्रैल 2018 को वर्जिन पीक पर सबमिट कर तिरंगा फहराया।

अगले महीने अफ्रीका की सबसे उंची चोटी करेेंगे फतह

सागर साल 2017 में कारगिल होते हुए लेह लद्दाख के मोचाई ग्लेशियर को पार करते हुए स्टोक कगरी बेस कैम्प पहुंचकर (-) 20 के तापमान में 20 हजार एक सौ सात फुट पर माउन्ट गोलाप कागरी पर झड़ा फहरा चुके है। इससे पहले 2016 में हिमाचल प्रदेश में स्लोगनाला बखरताज होते हुए 15 हजार 700 फुट सेतीदार पीक पर झण्डा फहराकर है। पिता के मुताबिक अब फिर से सागर ने अफ्रीका की सबसे ऊंची चोटी (किलिमंजारो) को अपनी मंजिल बनाया है। अब वो जून में अपने शहर के साथ देश का भी मान बढाएगा।

हमारा न्यूज़ चैनल सबस्क्राइब करने के लिए यहाँ क्लिक करें।
Follow us on Facebook http://facebook.com/HamaraGhaziabad
Follow us on Twitter http://twitter.com/HamaraGhaziabad

Subscribe to our News Channel