ताज़ा खबर :
prev next

शाम होते ही चौकियों के पास सज जाते हैं मयखाने, पुलिस वाले भी मजा लेते हैं मुफ्त खाने का

शाम होते ही चौकियों के पास सज जाते हैं मयखाने, पुलिस वाले भी मजा लेते हैं मुफ्त खाने का

गाज़ियाबाद | गाज़ियाबाद में ऐसी बहुत सी सड़कें और गलियाँ हैं जहां शाम होते ही अंडे और पकोड़े आदि के ठेलों पर मयखाने खुल जाते हैं। इनमें से बहुत से ओपन एयर बार तो स्थानीय चौकियों से कुछ कदमों की दूरी पर हैं। यहाँ तक की खुद एसएसपी और डीएम कार्यालय के पास भी शाम होते ही खुलेआम शराब पिलाई जाती है। आज हम आपको ऐसे ही दो मयखानों के बारे में बता रहे हैं जहां बिना पुलिसकर्मियों की मिलीभगत के शराब पीना-पिलाना संभव नहीं है।

पहला स्थान है महाराणा प्रताप मार्ग पर नासिरपुर फाटक। नेहरू नगर और कवि नगर के बीच गुजरती रेलवे लाइन पर बने इस फाटक पर कवि नगर वाले इलाके में नर्सरी के सामने सड़क पर अंडे और पकौड़े आदि की दुकानें है। शाम 6 बजे से ही इन दुकानों के आस-पास बड़ी-बड़ी गाड़ियों की कतारें लगनी शुरू हो जाती हैं जिनमें शहर के कई सफेदपोश और उनके बच्चे बैठ कर आराम से शराब पीते हैं। यह जगह नासिरपुर पुलिस चौकी से चंद कदमों की दूरी पर है। एक दुकानदार ने नाम न बताने की शर्त पर बताया कि अगर हम ग्राहक को शराब पीने से मना करते हैं तो वे मारपीट पर उतारू हो जाते हैं। ऐसे लोगों को पुलिस भी कुछ नहीं कहती है बल्कि हमें ही डरा धमका कर मुफ्त में अंडे, आमलेट और भुरजी ले जाते हैं। यही हाल यहाँ से गुजरने वाली पुलिस की लेपर्ड, पीसीआर और डायल 100 गाड़ियों का भी है।

ऐसा ही दूसरा स्थान है राज नगर में फ़्लाइओवर के नीचे वाला रेलवे फाटक। यहाँ मालीवाड़ा और राज नगर यानी सड़क के दोनों तरफ कई दुकानें और छोटे होटल हैं जहां खुद पुलिसवाले बैठ कर शराब पीते हैं जबकि यह स्थान सिहानी गेट थाने और एसएसपी ऑफिस से चंद कदमों की दूरी पर है। समीप ही नए गाज़ियाबाद रेलवे स्टेशन से ट्रेन पकड़ने वाले दैनिक यात्रियों के शराब पीने और पिलाने का ठिकाना भी यही दुकानें हैं। यहाँ से शराब पीकर शराबी पहले तो सड़क पर और फिर ट्रेन में सवार महिलाओं से बदतमीजी करते हैं और विरोध करने पर मारपीट पर उतारू हो जाते हैं।

इस संबंध में हम स्थानीय पुलिस में कई बार मौखिक रूप से बात कर चुके हैं। यहाँ से गुजरने वाली हर पुलिस की पीसीआर और डायल 100 गाड़ियों को इन मयखानों के बारे में पता है, मगर अज्ञात कारणों से आज तक कोई कार्यवाही नहीं हुई है। हम अपने पाठकों से अनुरोध करते हैं कि यदि आप भी ऐसे किसी मयखाने के बारे में जानते हैं तो उसके बारे में हमें चित्र और लोकेशन 88519 35215 पर व्हाट्स-एप के माध्यम से भेज दें। सुना है हमारे नए एसएसपी महोदय बहुत ही सख्त मिजाज हैं, शायद इस बार कुछ कार्यवाही हो जाए।