ताज़ा खबर :
prev next

महंगी कंपनी छोड़ प्रियंका ने शुरु किया कंस्ट्रक्शन को आसान बना देने वाला स्टार्टअप

महंगी कंपनी छोड़ प्रियंका ने शुरु किया कंस्ट्रक्शन को आसान बना देने वाला स्टार्टअप

 

भोपाल। कहा जाता है जिनके इरादे पक्के होते हैं उन्हें किसी के कहने की नहीं, बल्कि अपने करने की परवाह होती है। ये कहानी है भोपाल की रहने वाली प्रियंका गुप्ता की जिन्होंने सब कुछ छोड़कर स्टार्टअप के क्षेत्र में कदम रखा है।

प्रियंका बताती हैं कि बीटेक और एमबीए करने के बाद उन्हें एचडीएफसी लाइफ में पहली नौकरी मिली थी। वह मध्य प्रदेश की दस ब्रांचों को संभालती थीं। यहां तकरीबन एक साल तक काम करने के बाद उन्हें इन्फोसिस में परफॉर्मेंस मैनेजमेंट सिस्टम को संभालने की जॉब मिली। जॉब करते हुए प्रियंका को लगता था कि उन्होंने अब तक जो कुछ भी पढ़ा है वह अभी काम नहीं आ रहा है। उन्हें लगा कि इसे तो किसी भी रोबोट से भी कराया जा सकता है और आज का दौर ऐसा है जहां कुछ भी हो सकता है।

प्रियंका किसी वर्चुएल सर्विस वाले फील्ड पर काम करना नहीं चाहती थीं। वह कुछ ऐसा भी नहीं करना चाहती थीं जो सॉफ्ट हो। वह किसी प्रॉडक्ट पर काम करना चाहती थीं जिससे लोगों को प्रत्यक्ष रूप से फायदा हो। उनके दिमाग में कंस्ट्रक्शन क्षेत्र में काम करने का विचार आया। वह बताती हैं कि कंस्ट्रक्शन की इंडस्ट्री असंगठित है और यहां अशिक्षित, अस्थाई रूप से काम करने वाले लेबर के सहारे सारा काम किया जाता है। इससे कई तरह की समस्याएं आती हैं। बड़े कंस्ट्रक्शन में तो मशीनों का इस्तेमाल होता है, लेकिन छोटे कंस्ट्रक्शन कामों में सारा काम लेबर के सहारे होता है। इससे प्रॉब्लम होती है। वह कहती हैं, ‘हमने सोचा कि हम मशीन से काम करेंगे लेबरों पर निर्भरता को कम करेंगे। इससे पैसे और वक्त की बचत होगी।’

आगे प्रियंका ने बताया कि उसके पिता भी बिजनेसमैन हैं। उन्होंने प्रियंका को पूरा समर्थन दिया। प्रियंका ने पापा के ऑफिस के एक कोने में ही अपना ऑफिस बनाया और ‘ब्रिक एंड मोर्टार कंस्ट्रक्शन’ नाम से अपनी कंपनी शुरू कर दी। प्रियंका के पास फ्लोरिंग, प्लास्टरिंग, पेंटिंग, एक्सटीरियर फिनिश जैसे काम करने के लिए हर तरह की मशीनें हैं। उन्हें भोपाल में ही कुछ छोटे-छोटे प्रॉजेक्ट मिले। लेकिन वह कहती हैं कि लोगों में अभी उतनी जागरूकता नहीं है और वे परंपरागत तरीके से ही सारा काम करवाते हैं। वह पूरे विश्वास के साथ कहती हैं कि ‘ठेकेदारी’ वाले इस काम में उन्हें मजा आ रहा है और उम्मीद है कि आगे वह बेहतर करेंगी।

 

आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो भी कर सकते हैं।