ख़बरें राज्यों से

112 पर कॉल कर पुलिस को फर्जी सूचना देने वाला गिरफ्तार, बोला- पुलिस बैठी रहती है इसीलिए गुस्से आता है

लखनऊ। कन्ट्रोल रूम (112) में फर्जी सूचनायें देकर पुलिस को परेशान करने के आरोपित दिव्य प्रकाश उर्फ दिनेश को चिनहट पुलिस ने गुरुवार को गिरफ्तार कर लिया। उसने अफसरों के सामने कुबूला कि उसे पुलिस को परेशान करने में मजा आता है। पुलिस अक्सर बैठी ही रहती है, इसलिये वह ऐसा करता था। घर वालों ने पुलिस से कहा कि उनके बेटे की मानसिक स्थिति ठीक है। पर, उसकी ऊलजुलूल हरकतों से पूरा घर परेशान रहता है। पुलिस उसके बारे में और जानकारियां जुटा रही है।

इंस्पेक्टर चिनहट घनश्याम त्रिपाठी ने बताया कि मटियारी, गणेशपुर में रहने वाला दिव्य प्रकाश (30) एक महीने से कन्ट्रोल रूम-112 में फर्जी सूचनायें दे रहा था। इन सूचनाओं पर पुलिस काफी देर तक परेशान रहती थी। तब, पता चलता था कि सूचना फर्जी थी। दिव्य प्रकाश ने इंटरमीडियट तक ही पढ़ाई की है। उसने बताया कि पुलिस को बैठा देखकर उसे गुस्सा आ जाता था। इसलिये वह फर्जी सूचना देकर पुलिस को परेशान करता था। इससे उसे मजा आता था।

सूचना देने के बाद मोबाइल बंद कर लेता था
आरोपित दिव्य प्रकाश ने बताया कि वह कन्ट्रोल रूम में सूचना देने के तुरन्त बाद अपना मोबाइल ऑफ कर लेता था। इससे पुलिस उससे सम्पर्क नहीं कर पाती थी। इससे उसकी लोकेशन नहीं मिल पाती थी। इस नम्बर से कई फर्जी सूचनायें आने पर पुलिस ने सर्विलांस की मदद ली। दिव्य की लोकेशन पता कर पुलिस उसके घर तक पहुंच गयी। उसके खिलाफ शांति भंग करने की एफआईआर दर्ज कर गिरफ्तार कर लिया गया।

देवा रोड पर पांच लोग मर गये हैं…
चिनहट इंस्पेक्टर ने बताया कि कुछ दिन पहले दिव्य ने कन्ट्रोल रूम पर सूचना दी कि चिनहट में देवा रोड पर सड़क हादसे में पांच लोगों की मौत हो गई है…। गुस्सायें लोगों ने आगजनी कर दी है।…दो पक्षों में मारपीट हो गई जिसमें एक दर्जन से अधिक लोग घायल हो गये हैं…। …एक दुकान में आग लग गई है…। ऐसी सूचनाओं पर पुलिस काफी देर परेशान रहती थी।

मानसिक स्थिति सामान्य है आरोपित की
पुलिस ने बताया कि दिव्य प्रकाश की मानसिक स्थिति सामान्य है। उसके पिता राम महेश ने भी बताया कि दिव्य की ऐसी ही ऊलजुलूल हरकतों से पूरा परिवार परेशान रहता है। वह ऐसा क्यों करता है, यह किसी की समझ में नहीं आता। उसे काफी समझाया जा चुका है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.