ख़बरें राज्यों से

पंजाब में टल सकते हैं विधानसभा चुनाव, आज होगी चुनाव आयोग की बैठक

चंडीगढ़। निर्वाचन आयोग आज सोमवार को एक बैठक में पंजाब के सियासी दलों की उस मांग पर विचार करेगा जिसमें उन्होंने गुरु रविदास जयंती के मद्देनजर विधानसभा चुनाव के लिए 14 फरवरी को प्रस्तावित मतदान को टालने का अनुरोध किया है।

पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी ने निर्वाचन आयोग से रविदास जयंती के मद्देनजर मतदान को छह दिन के लिए टालने का अनुरोध किया है। चुनाव आयोग को लिखे अपने पत्र में चन्‍नी ने लिखा है ’16 फरवरी को गुरु रविदास जयंती के मद्देनजर राज्य के अनुसूचित जाति समुदाय के लोग वाराणसी जाते हैं। ऐसे में चुनाव को कम से कम छह दिनों के लिए स्थगित कर दें।’ पंजाब लोक दल के संस्थापक कैप्टन अमरिंदर सिंह भी यह मांग कर चुके हैं। बसपा सहित अन्य पार्टियों ने भी यही अनुरोध किया है।

भाजपा की पंजाब इकाई के महासचिव सुभाष शर्मा ने रविवार को मुख्य निर्वाचन आयुक्त को लिखे एक पत्र में चुनाव की तारीख आगे बढ़ाने की मांग करते हुए कहा, ”राज्य में अनुसूचित जाति (एससी) समुदाय सहित गुरु रविदास जी के अनुयायियों की अच्छी खासी आबादी है, जो पंजाब की आबादी का लगभग 32 प्रतिशत है।”

शर्मा ने लिखा है, ”इस पावन अवसर पर लाखों श्रद्धालु उत्तर प्रदेश के बनारस में गुरुपर्व मनाने के लिए जाएंगे। इस कारण से उनके लिए मतदान प्रक्रिया में भाग लेना संभव नहीं होगा। इसलिए आप सभी से अनुरोध है कि मतदान की तिथि को आगे बढ़ाया जाए ताकि पंजाब के ये मतदाता चुनाव प्रक्रिया में भाग ले सकें।” पंजाब लोक दल के संस्थापक कैप्टन अमरिंदर सिंह भी यह मांग कर चुके हैं।

बता दें कि लाखों श्रद्धालु रविदास जयंती मनाने के लिए उत्तर प्रदेश के वाराणसी जाते हैं और राजनीतिक पार्टियों का मानना है कि वे (श्रद्धालु) इसकी वजह से मतदान नहीं कर पाएंगे। इस साल गुरु रविदास की जयंती 16 फरवरी को पड़ रही है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.