राष्ट्रीय

केंद्र का बड़ा फैसला, अब 23 जनवरी से मनाया जाएगा गणतंत्र दिवस समारोह

नई दिल्ली। गणतंत्र दिवस का जश्न मनाने को लेकर केंद्र सरकार ने बड़ा फैसला किया है। मोदी सरकार ने अब गणतंत्र के जश्न के शुरुआत हर साल 23 जनवरी से करने का फैसला किया है।

मोदी सरकार का यह फैसला भारत के इतिहास और संस्कृति से जुड़ी बड़ी हस्तियों को याद करने के लिहाज से उठाया गया है। दरअसल 23 जनवरी को वीर स्वतंत्रता सेनानी सुभाष चंद्र बोस की जयंती होती है इसलिए अब देश में सुभाष चंद्र बोस की जयंती के दिन से गणतंत्र दिवस का जश्न मनाया जाएगा। गौरतलब है कि भाजपा सरकार पहले भी कई तारीखों को राष्ट्रीय महत्ता के दिवस के तौर पर घोषित कर चुकी है। इनमें 14 अगस्त को विभाजन विभीषिका स्मृति दिवस, 31 अक्तूबर को सरदार पटेल की जयंती को राष्ट्रीय एकता दिवस, 15 नवंबर को बिरसा मुंडा की जयंती को जनजातीय गौरव दिवस और 26 नवंबर को संविधान दिवस के तौर पर घोषित कर चुके हैं।

29 को बीटिंग द रिट्रीट के साथ खत्म होता है समारोह
24 जनवरी से गणतंत्र दिवस की औपचारिक शुरुआत हो जाती है जिसका समापन 29 जनवरी को बीटिंग द रिट्रीट (Beating The Retreat) कार्यक्रम के साथ हो जाता है। इस दौरान सेना की तीनों शाखाएं पारंपरिक धुन बजाते हुए मार्च करती हैं। विजय चौक में होने वाले इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि राष्ट्रपति होते हैं। इस दौरान राष्ट्रपति से गणतंत्र दिवस समारोह खत्म करने की अनुमति मांगी जाती है। अब नेताजी के जन्मदिवस 23 जनवरी से ही गणतंत्र दिवस की शुरुआत हो जाएगी।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *