अंतर्राष्ट्रीय

तबाही मचा रहा है ओमीक्रोन, नीदरलैंड में लगा लॉकडाउन

कोरोना का ओमीक्रोन वेरिएंट एक बार फिर दुनिया के लिए बड़ी मुसीबत बनकर सामने आया है। पिछले तीन हफ्तों में दुनिया के अधिकतर देशों में दस्तक दे चुका है। ओमीक्रोन अमेरिका के 50 राज्यों में से 48 राज्यों में दस्तक दे चुका है, न्यूयार्क में 90% नए मामलों में ओमीक्रोन के होने की वजह बताई जा रही है। इस बीच नीदरलैंड की सरकार ने राष्ट्रव्यापी सख्त लॉकडाउन की घोषणा कर दी है।

नीदरलैंड के कार्यवाहक प्रधानमंत्री मार्क रूट ने ट्वीट कर बताया कि सरकार ने देश में कोरोनावायरस के ओमिक्रॉन वेरिएंट के बढ़ने के डर से सख्त लॉकडाउन लगाने की घोषणा की है। रूट ने कहा कि देश में फिर से लॉकडाउन लगने जा रहा है, यह कदम ओमिक्रॉन संस्करण की वजह से पांचवीं लहर के कारण लगाया जा रहा है। देश में स्कूल, विश्वविद्यालय और सभी गैर-जरूरी स्टोर, बार और रेस्तरां 14 जनवरी तक बंद रहेंगे। केवल क्रिसमस और नए साल पर चार मेहमानों को अनुमति होगी। अन्य दिन केवल दो लोगों को ही अनुमति होगी।

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कहा है कि 89 देशों में ओमीक्रॉन कोरोना वायरस वायरस की सूचना मिली है और सामुदायिक प्रसारण वाले क्षेत्रों में मामलों की संख्या 1.5 से तीन दिनों में दोगुनी हो रही है। डब्ल्यूएचओ ने कहा कि ओमीक्रॉन उच्च स्तर की जनसंख्या वाले देशों में तेजी से फैल रहा है लेकिन यह स्पष्ट नहीं है कि यह वायरस की इम्यून से बचने की क्षमता के कारण है या इसकी स्वाभाविक बढ़ी हुई ट्रांसमिशन या दोनों के संयोजन के कारण है।

डब्ल्यूएचओ ने कहा, ओमीक्रॉन की ​​​​गंभीरता पर अभी भी सीमित आंकड़े हैं। इस वेरिएंट को समझने के लिए अभी भी अधिक डेटा की आवश्यकता है। डब्ल्यूएचओ ने चेतावनी दी है कि मामले इतनी तेजी से बढ़ रहे हैं कि कुछ जगहों पर अस्पतालों पर दबाव बढ़ सकता है।

8.65 अरब को लगी कोरोना वैक्सीन
विश्व में कोरोनावायरस महामारी से लोगों को बचाए जाने के अभियान में विभिन्न देशों द्वारा अभी तक 8 अरब 65 करोड़ 74 लाख 12 हजार 210 लोगों का टीकाकरण हो चुका है। जॉन हॉपकिंस विश्वविद्यालय के अनुसार इस वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या बढ़कर 27 करोड़ 41 लाख 68 हजार 137 हो गई है तथा अब तक 53 लाख 49 हजार 431 लोगों की मौत हो चुकी है। दुनियाभर में इस समय अमेरिका. जर्मनी, ब्रिटेन, फ्रांस, रूस इस महामारी से सबसे अधिक प्रभावित हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *