एनसीआर

दिल्ली सरकार ने दी राहत, निर्माण गतिविधियों से हटा बैन, स्कूल खोलने पर 24 को होगा फैसला

दिल्ली। दिल्ली में तेज हवाएं चलने से वायु की गुणवत्ता में हुए मामूली सुधार के बाद दिल्ली सरकार ने आज राजधानीवासियों को एक बड़ी राहत दी है। दिल्ली के पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने कहा कि सरकार ने हवा की गुणवत्ता में सुधार को देखते हुए निर्माण और इमारतों को ध्वस्त करने की गतिविधियों पर से प्रतिबंध हटा लिया है। इसके अलावा, सरकारी दफ्तरों में वर्क फ्राम होम समाप्त करने और स्कूलों को पुनः खोलने को लेकर दिल्ली सरकार 24 नवंबर फैसला लेगी।

सोमवार को हुई हाई लेवल मीटिंग के बाद दिल्ली के पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने कहा कि सरकार ने हवा की गुणवत्ता में सुधार को देखते हुए निर्माण और इमारतों को ध्वस्त करने की गतिविधियों पर से प्रतिबंध हटा लिया है। सरकारी दफ्तरों में वर्क फ्राम होम समाप्त करने और स्कूलों को पुनः खोलने को लेकर दिल्ली सरकार 24 नवंबर फैसला लेगी।

दिल्ली में तेज हवाएं चलने से सोमवार को सुबह वायु की गुणवत्ता में मामूली सुधार देखने को मिला और विजिबिलिटी भी कुछ बेहतर हुई। दिल्ली में वायु गुणवत्ता सूचकांक (AQI) 307 दर्ज किए जाने के साथ ही वायु गुणवत्ता ‘बहुत खराब’ श्रेणी में ही रही। हालांकि एक दिन पहले एक्यूआई 349 था, जिसमें आज सुधार दर्ज किया गया। वहीं, वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई), गुरुग्राम में 318, ग्रेटर नोएडा में 213, फरीदाबाद में 326 और नोएडा में 268 रहा।

गौरतलब है कि प्रदूषण से निपटने के लिए दिल्ली सरकार ने बुधवार को 10 निर्देश जारी किए थे। जिसमें शहर में गैरजरूरी सामान ले जाने वाले ट्रकों के प्रवेश पर प्रतिबंध और अगले आदेश तक स्कूल-कालेज बंद करना भी शामिल था। इसके अलावा सरकार ने 21 नवंबर तक शहर में निर्माण और विध्वंस गतिविधियों पर रोक लगा दी थी। साथ ही अपने सभी कर्मचारियों को रविवार तक घर से काम करने का आदेश दिया था।

आपका साथ– इन खबरों के बारे आपकी क्या राय है। हमें फेसबुक पर कमेंट बॉक्स में लिखकर बताएं। शहर से लेकर देश तक की ताजा खबरें व वीडियो देखने लिए हमारे इस फेसबुक पेज को लाइक करें। हमारा न्यूज़ चैनल सबस्क्राइब करने के लिए यहाँ क्लिक करें। हमसे ट्विटर पर जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक कीजिए।

हमारा गाजियाबाद के व्हाट्सअप ग्रुप से जुडने के लिए यहाँ क्लिक करें।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *