अपराधएनसीआर

एक करोड़ रुपये की रंगदारी नहीं देने पर कारोबारी को गोली मारने की धमकी, टिल्लू गैंग के 4 बदमाश गिरफ्तार

दिल्ली। एक करोड़ रुपये की रंगदारी नहीं देने पर कारोबारी की कार पर गोलीबारी कर धमकी देने के मामले में टिल्लू ताजपुरिया गैंग के 4 बदमाशों को स्पेशल स्टाफ ने गिरफ्तार किया है। इनमें एक बदमाश कारोबारी की फैक्ट्री से सामान लोड अपलोड करता था।

जिला पुलिस उपायुक्त प्रणव तायल ने बताया कि सेक्टर-7 रोहिणी निवासी कारोबारी की फैक्टरी बवाना और सोनीपत है। अप्रैल में उसने रोहिणी उत्तरी थाने में रंगदारी मांगे जाने की शिकायत की थी। जिसमें बताया कि 8 अप्रैल को चिकू नाम के व्यक्ति ने व्हाट्सएप कॉल कर खुद को टिल्लू गैंग का बदमाश बताया और एक करोड़ रुपये की रंगदारी मांगी थी। ऐसा नहीं करने सौ गोली मारने की धमकी दी। पुलिस ने मामले की जांच करते हुए तिहाड़ जेल में बंद हिम्मत उर्फ चिकू से पूछताछ कर जेल से ही गिरफ्तार कर लिया।

उसके सेल से पुलिस को मोबाइल फोन मिला, जिससे कारोबारी को धमकी दी गई थी। उसके बाद 23 अगस्त को बदमाश ने कारोबारी के घर पर पार्क उसकी कार पर 5 गोली चलाईं। बदमाश वहां एक पर्ची छोड़कर गए। जिसमें एक करोड़ रुपये देने के लिए कारोबारी को तीन दिन का समय दिया गया था। स्पेशल स्टाफ ने घटनास्थल के आस पास सीसीटीवी कैमरे की फुटेज को खंगाला। जिसमें बदमाश की बाइक दिखी। नंबर की जांच करने पर पता चला कि बाइक बेगमपुर इलाके से चोरी की गई है।

उधर, जेल में बंद आरोपी हिम्मत को दो दिन की रिमांड पर लेकर पुलिस ने पूछताछ की। जिसमें उसने पूरी साजिश का खुलासा कर दिया। जांच में पता चला कि टेंपो चलाने वाले रवि पराशर ने बदमाशों को कारोबारी के बारे में जानकारी और उसका फोन नंबर दिया था। वह आकाश खत्री और जयंत मान का दोस्त है। जयंत मान हिम्मत के चचेरे भाई सुनील मान का कॉलेज का दोस्त है और हिम्मत से उसकी गहरी दोस्ती है। वह लगातार जेल में बंद हिम्मत से मिलने जाता था। उसने ही रंगदारी मांगने के लिए रवि से मिले कारोबारी का नंबर हिम्मत को जेल में दिया था। राहुल ने हिम्मत को फर्जी नाम पर सिम मुहैया करवाई थी और वॉट्सऐप के लिए ओटीपी नंबर दिया था। वहीं, आकाश खत्री ने कारोबारी के घर पर गोलीबारी की थी।

गिरफ्तार आरोपियों की पहचान नया बांस निवासी जयंत मान, नरेला निवासी आकाश खत्री, रवि पराशर और बख्तावरपुर निवासी राहुल के रूप में हुई है। इनमें रवि पाराशर टेंपो चलाता है। वह कारोबारी की फैक्ट्री से सामान लोड अपलोड करता था। जांच में पता चला कि आकाश और जयंत दिल्ली विश्वविद्यालय से स्नातक हैं। आकाश राजधानी कॉलेज में पढ़ता था जबकि जयंत स्वामी श्रद्धानंद कालेज से बीएससी की पढ़ाई करने के बाद फार्मेसी में डिप्लोमा कर चुका है। जयंत ने कॉलेज के छात्र राजनीति में सचिव के पद के लिए चुनाव लड़ चुका है।

आपका साथ– इन खबरों के बारे आपकी क्या राय है। हमें फेसबुक पर कमेंट बॉक्स में लिखकर बताएं। शहर से लेकर देश तक की ताजा खबरें व वीडियो देखने लिए हमारे इस फेसबुक पेज को लाइक करें। हमारा न्यूज़ चैनल सबस्क्राइब करने के लिए यहाँ क्लिक करें। हमसे ट्विटर पर जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक कीजिए।

हमारा गाजियाबाद के व्हाट्सअप ग्रुप से जुडने के लिए यहाँ क्लिक करें।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *