एनसीआर

साहित्यकार मन्नू भंडारी का 90 वर्ष की आयु में निधन

गुरुग्राम। हिंदी की सुप्रसिद्ध लेखिका और कथाकार मन्नू भंडारी का आज 15 नवंबर को निधन हो गया है। वो 90 वर्ष की थीं, उन्होंने हरियाणा के गुरुग्राम स्थित डीएलएफ स्थित नारायणा अस्पताल में अंतिम सांस ली।

महिलाओं की आज़ादी जैसे विषयों पर लिखने वाली और नई कहानी की सशक्त हस्ताक्षर मन्नू भंडारी की पहचान ‘महाभोज’ और ‘आपका बंटी’ जैसे उपन्यासों से है, मन्नू भंडारी का जन्म 3 अप्रैल, 1931 को हुआ था। वो डीएलएफ फेज तीन स्थित आवाज पर मनु अपनी बेटी रचना यादव के साथ रहती थीं। रचना ने बताया कि उन्हें नौ नवंबर को अस्पताल में भर्ती करवाया गया था। तेज बुखार होने पर अस्पताल ले जाया गया था। हालात बिगड़ती गई और अस्पताल में ही उनका निधन हो गया।

उनके निधन से हिंदी साहित्य जगत की एक पीढ़ी का अवसान हो गया है। भोपाल में जन्मीं मन्नू भंडारी नई कहानी आंदोलन का हिस्सा रही हैं, जिसकी शुरुआत निर्मला वर्मा, राजेंद्र यादव, भीष्म साहनी, कमलेश्वर जैसे लेखकों ने की थी। मन्नू भंडारी उन लेखिकाओं में से रही हैं, जिन्होंने आजादी के बाद के भारत की आकांक्षी महिलाओं की कहानियों को लिखा है। उनकी कहानियों और उपन्यासों में महिला किरदारों के संघर्ष और समाज में उनकी स्थिति का चित्रण किया गया है।

कई दशकों तक लगातार लेखन में सक्रिय रहने वाली मन्नू भंडारी ने ‘आपका बंटी’, ‘मैं हार गई’, ‘तीन निगाहों की एक तस्वीर’, ‘एक प्लेट सैलाब’, ‘यही सच है’, ‘आंखों देखा झूठ’ और ‘त्रिशंकु’ जैसी महत्वपूर्ण कृतियाँ लिखी हैं। उनकी लिखी एक कहानी ‘यही सच है’ पर बासु चैटर्जी ने 1974 में ‘रजनीगंधा’ फिल्म भी बनाई थी।

1979 में प्रकाशित उनका उपन्यास ‘महाभोज’ मील का पत्थर साबित हुआ। यह उपन्यास भ्रष्ट अफ़सरशाही, राजनीति और बिखरते हुए समाज के बीच संघर्ष करते हुए मध्यम वर्गीय आदमी की कहानी है। 3 अप्रैल 1931 को मध्य प्रदेश के मंदसौर में जन्मी मन्नू भंडारी सुप्रसिद्ध साहित्यकार राजेंद्र यादव की पत्नी थीं। दिल्ली के प्रतिष्ठित मिरांडा हाउस कॉलेज में वह लंबे समय तक पढ़ाती रहीं। मन्नू भंडारी के निधन से साहित्य जगत् में शोक की लहर है, हिंदी के कई लेखकों और लेखिकाओं ने शोक प्रकट करते हुए प्रतिक्रिया दी है।

आपका साथ– इन खबरों के बारे आपकी क्या राय है। हमें फेसबुक पर कमेंट बॉक्स में लिखकर बताएं। शहर से लेकर देश तक की ताजा खबरें व वीडियो देखने लिए हमारे इस फेसबुक पेज को लाइक करें। हमारा न्यूज़ चैनल सबस्क्राइब करने के लिए यहाँ क्लिक करें। हमसे ट्विटर पर जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक कीजिए।

हमारा गाजियाबाद के व्हाट्सअप ग्रुप से जुडने के लिए यहाँ क्लिक करें।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *