एनसीआर

गुरुग्राम में नहीं हुई सार्वजानिक जगह पर नमाज, हिंदू संगठनों ने बैठकर खााई मूँगफली, कहा- यहाँ वॉलीबॉल कोर्ट बनाएँगे

गुरुग्राम। हरियाणा के गुरुग्राम में नमाज की साइट को लेकर रोज विवाद बढ़ता ही जा रहा है। सेक्टर 12 में जहां हर बार जुमे की नमाज़ होती थी वहां पर हिंदू संगठनों ने गोवर्धन पूजा की और आज सुबह से ही हिंदू संगठन के लोग नमाज़ पढ़ने वाली जगह पर बैठकर मूंगफली खा रहे हैं।पिछली बार यहां पूजा के लिए गोबर के उपले लगे थे, उसे हिंदू संगठनों ने नहीं हटने दिया। हिंदू संगठनों का कहना है कि किसी भी कीमत पर नमाज नहीं होने देंगे। वहीं इस मामले में मुस्लिम संगठन कार्यवाही न करने का आरोप लगा रहे हैं, हिन्दू संगठनों का ये भी कहना है कि हम यहां वॉलीबॉल कोर्ट बनाएंगे।

सेक्टर-12 में जहां मुस्लिम समुदाय के लोग नमाज पढ़ने आते थे, पिछले हफ्ते वहां गोवर्धन पूजा की गई थी। उस दौरान वहां गोवर्धन पूजा के बाद कुछ लोगों ने उपले बनाए थे, जो अभी भी मैदान में पड़े हुए हैं। फिलहाल, कुछ वीडियो सामने आए हैं, जिनमें देखा जा सकता है कि लोग वहीं चक्‍कर काट रहे हैं, जहां पर दो समुदायों के बीच विवाद चल रहा था। लोग आस-पास बैठे और मूंगफली खाते हुए दिख जाते हैं। उनमें से कई कहते हैं कि, यहां पर नमाज की अनुमति नहीं दी जा सकती। उन्‍होंने कहा, नमाज की आड़ में हमारे इलाके में रोहिंग्‍या मुस्लिमों की आपराधिक गतिविधियां चलती हैं। ऐसे में यहां नमाज बिल्‍कुल नहीं पढ़ने दी जाएगी।

एक हिंदू संगठन के क्षेत्‍रीय पदाधिकारी ने कहा, ”हम यह स्‍पष्‍ट कह चुके हैं कि.. जमीन हमारी है और यहां किसी को नमाज की अनुमति नहीं देंगे।” वीर यादव नाम के शख्‍स ने कहा, ”देखिए हम यहां बच्‍चों के लिए खेल के आयोजन करवाएंगे। इसके लिए यहां पर वॉलीबॉल कोर्ट बनाएंगे (और) फिर बच्चे खेलेंगे। मगर सरकार भी सुन ले कि यहां नमाज नहीं होने देंगे, कुछ भी हो जाए।”

उधर, सेक्टर-47 में भी स्थिति शांतिपूर्ण रही। यहां भी नमाज पढ़ने के लिए कोई नहीं पहुंचा। सिरहौल स्थित पार्क के पास नमाज पढ़ने पहुंचे लोगों का स्थानीय लोगों ने विरोध किया। यहां नारेबाजी भी की गई। इनका कहना था कि वह यहां नमाज नहीं पढ़ने देंगे। इसके लिए वह मस्जिद में जाएं या अपने घर में। इसके लिए सार्वजनिक स्थानों का इस्तेमाल किया जाना किसी प्रकार से उचित नहीं है। बताया जा रहा है कि सेक्टर-44 में दो स्थानों पर जुमे की नमाज पढ़ी गई। हिदू संगठन से संबंधित राजीव मित्तल ने बताया कि यहां नमाज पढ़ने के विरोध में जिला प्रशासन के नाम शनिवार को ज्ञापन दिए जाने की योजना है।

बता दें कि, वर्ष 2018 में इसी तरह की झड़पों के बाद हिंदुओं और मुसलमानों के बीच एक समझौते के बाद नमाज पढ़ने के लिए जो जगह तय हुई थी, वह सेक्टर-12 ए में साइट 29 (यह 37 हुआ करती थी) में से एक है। इनमें से कुछ स्थान, वास्तव में, सार्वजनिक संपत्ति हैं, जैसे कि सेक्टर 47 में से एक। हालांकि, अन्य निजी संपत्ति हैं, जिस पर नमाज पढ़ने पर आपत्ति नहीं उठाई जा सकती है।

पिछले हफ्ते (5 नवंबर को शुक्रवार की नमाज से पहले) गुड़गांव के अधिकारियों ने इनमें से आठ “नामित” स्थलों पर नमाज अदा करने की अनुमति वापस ले ली। प्रशासन ने कहा कि, तनाव व्‍याप्‍त न हो, इसलिए अभी “वहां अनुमति नहीं दी जाएगी”। क्‍योंकि, किसी भी सार्वजनिक और खुले स्थान पर नमाज के लिए प्रशासन की सहमति जरूरी है।

आपका साथ– इन खबरों के बारे आपकी क्या राय है। हमें फेसबुक पर कमेंट बॉक्स में लिखकर बताएं। शहर से लेकर देश तक की ताजा खबरें व वीडियो देखने लिए हमारे इस फेसबुक पेज को लाइक करें। हमारा न्यूज़ चैनल सबस्क्राइब करने के लिए यहाँ क्लिक करें। हमसे ट्विटर पर जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक कीजिए।

हमारा गाजियाबाद के व्हाट्सअप ग्रुप से जुडने के लिए यहाँ क्लिक करें।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *